लम्हें


यूँ छुप छुप न देखा करो हमारी प्रोफाइल को l
मुहब्बत गर दिल में तो सीधा वार किया करो ll

बचपन की मुहब्बत रूह की मुहब्बत होती l
न जिस्म की चाहत न रूप तंग की परवाह.ll

ज़िन्दगी में सब बर्दाश
मगर बेइज़्ज़ती नहीं l
वक़्त रहते वादा निभा
वरना ये ज़िन्दगी नहीं ll

कोई दिल का अरमाँ हो तो
लिख सकते हो.!
सुना है आज कल जनाब को
नींद न आती.!!

बेवफा दुनियां में वफ़ा की तलाश न कर.!
यहाँ एक चहरे पर कई चेहरे लगाते लोग.!!

इश्क़ इबादत ए इश्क़ पूजा l
जिनूँ मिल्या इश्क़ रब्ब ए ll

एक सहारे नहीं छोड़ी जाती दुनियां
जीवन तो आना जाना है.!
जो गुज़र गया उसे भूलना है बेहतर
अपनों के लिए भी जीना है.!!

यूँ न इतराओ इस जवानी के नूर पर,
उतर जायेगी एक दिन चढ़ो न खजूर पर.!
लोगों का क्या कब एतेबार उनका
किया कीजिये.!
खुद को बचाना है तो हिफाज़त
खुद ही कीजिये.!!

क्या निगाहें उठा झुका समझना चाहो,
दिल ना फिसलेगा तुझ हुस्न ए लंगूर पर.!!

कोई दिल का अरमाँ हो तो लिख सकते हो.!
सुना है आज कल जनाब को नींद न आती.!!

About Dilkash Shayari

All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on December 14, 2020, in Shayari Khumar -e- Ishq. Bookmark the permalink. Leave a comment.

Comments / आपके विचार ही हमारे लिखने का पैमाना हैं.....ज़रूर दीजिये...

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: