These Days…


trust

दुनियां को यक़ीन पर मिटते देखा है,
हर  प्यार  करने वाले को यक़ीन करते देखा.!
यक़ीन कर  कई  आबाद – बर्बाद हुए,
चाँद रुपए-पैसों खातिर यक़ीन बिकते देखा.!!

Angry Electrocardiogram…


Aap Behtar Hain Ye Sab Jante,

Aap Se Behtar Nahin Hum Jante Hain.!

Phir Taqraar Kis Baat Ki Hai,

Khuda Jane Kis Baat Par Mante Hain.!!

76

आप बेहतर हैं ये सब जानते हैं,
आप से बेहतर नहीं हम जानते हैं.!
फिर तक़रार किस बात की है,
खुदा जाने किस बात पर मानते हैं.!!

💖💖💖💖😘😘😘

नाराज दिलरुबा

तसव्वुर.!!


thanks.jpg

उनकी खूबसूरती खूबसूरत धोखा है,
तसव्वुर रब्ब बेशक जैसा है.!
कभी इंकार करें और कभी इक़रार,
प्यार उनका  तकरार जैसा है.!!

याद…


याद.jpg

बहुत चाहा भूलना मगर,
जितना भुलाना चाहा याद आते गए.!!
काम इतना असां नहीं,
जब  चाहा  दिल  में  कोई बसाते गए.!!!

Fulfill Your Words…


किसी की बात ना मान आपको बड़ा अच्छा लगता है……..?
अगर ज़िन्दगी में मौका मिलने पर वो आपकी बात ना माने तो….?
तब शायद आपको पता चलेगा ,,,,,,,,,,,,,,,?
लाइफ में चोट का एहसास तभी होता है जब आपको खुद चोट लगती है……….?
समय रहते चेतिये……?
” वक़्त आपका नहीं आपको वक़्त का इंतज़ार करना ही होगा “

Once In Your Life……


इज़्ज़त बाजार में नहीं मिलती आपको कमानी पड़ती है
कोई आप पर यक़ीन करे क्यों.?
आपको भी तो पहले उसके यक़ीन पर खरा उतरना होता है.?
पर आप है की.?
कोशिश कीजिये आप जिंदगी में कभी किसी का भरोसा ना तोड़ें.?
जब कभी यक़ीन टूटता है तो दर्द बड़ा होता है…?
ईश्वर कभी आपका किसी पर किया गया यक़ीन ना तोड़े.?
बस यही दुआ है…..!!

“Credibility is Like Virginity You Loose Once In Your Life”

उम्मीद


उम्मीद भी बड़ी अच्छी चीज़ है यारो?
दो दिन से उन संग बात ना हो पर दिल है की….

pic

ना बतियाने की आदतें छोड़ दो यारा,
यारों से खामोशियाँ अच्छी नहीं होती.!
जाने कब छोड़ चला जाऊं जहाँ को,
दिलों की दूरियां यूँ अच्छी नहीं होती.!!

खँडहर


आओ दो पल ख़ुशी के गीत मुझ संग गा लो,
अगला पल जाने क्या ले आये.!
इस ज़िन्दगी  ने  खूबसूरत  महलों को पल में,
खँडहर बनते – ढहते  देखा है.!!

pal

दो पल की ख़ुशी.!!


किसी की दो पल की  ख़ुशी  किसी  को जन्मों का दर्द.!
वासना कितनी अजीब होती इंसानियत शर्मसार करती.!!

Kisi Ki Do Pal Ki  Khushi  Kisi  Ko  Janmon Ka Dard.!

Vasana Kitni Azeeb Hoti Insaniyat Sharmsaar Karti.!!

रुतबा


जो झुकना ना जाने वो खुद को ना पहचाने.!
खुद को ही धोखा दे सोचे रुतबा उसका बड़ा.!!

tree

Jo Jhukna Na Jaane Wo Khud Ko Na Pehchane.!

Khud Ko Hi Dhokha De Sauche Rutba Uska Bda.!!

इतंज़ार.!!


बेवजह नहीं हैं मेरे शिक़वे-शिकायत.!
इतंज़ार कर बहुत थक गया हूँ मैं.!!

shiqayat.jpg

Bewjah Nahin Hain Mere Shiqwe-Shiqayat.!

Itnzaar Kar  Bahut  Thak Gaya Hoon Main.!!

दिल्लगी…


कैसी मुहब्बत कैसी दिल्लगी जो जीने नहीं देती.!
बेबसी की इन्हां मरना  चाहा  मरने नहीं देती.!!
बहुत हुए हैं बदनाम तेरे इश्क़ की राह चल कर.!
कैसी रायशुमारियाँ हैं जो बेदाग होने नहीं देती.!!

aankhe

Kaisi Muhabbat  Kaisi  Dillagi  Jo Jeene Nahin Deti.!

Bebasi Ki  Inhaan  Marna Chaaha Marne Nahin Deti.!!

Bahut Hue Hain Badnam Tere Ishq Ki Rah Chal Kar.!

Kaisi Raishumariyan Hain Jo Bedag Hone Nahin Deti.!!

Beautiful Princess…


बात न करने की लगता आज उसने कसम खाई है.!
तभी तो गौरी छुप-छुप कर ऑनलाइन हो आई है.!!
अज़ी  गर्म  मौसम  में  इतनी गर्मी ठीक नहीं.!
तेरी गली गन्ना-चरखी लगाने की ख्वाहिश है.!!
कल तक तो खूब बतिया रही थी दीवाना कर गई.!
लगता  मम्मी  ने नेट  करने  पर पाबन्दी लगाई है.!!
खुद  ही  सोच  कब  तक  तेरी  खातिर  लिखता  रहूँ.!
बेवजह ही अपने दिल-औ-दिमाग की जोर-ाज्मिश है.!!
जब चाहा दिल से खेला और जब चाहा खूब बतिया.!
दिल तोडना-जोड़ना मनो हुस्न वालों की पैदाइश है.!!

u

Baat Na Karne Ki Lagta Aaj Usne Kasam Khai Hai.!

Tabhi To Gauri Chup-Chup Kar Online Ho Aai Hai.!!

Azi Garm Mausam Mein Itani Garmi Theek Nahin.!

Teri Gali Ganna-Charkhi Lagane Ki Khwahish Hai.!!

Kal Tak To Khub Batiya Rahi Thi Deewana Kar Gai.!

Lgta Mummy Ne Net Karne Par Pabandi Lagai Hai.!!

Khud Hi Sauch Kab Tak Teri Khatir Likhta Rahoon.!

Bewajah Hi Apne Dil-o-Dimaag Ki Jor-Aajmish Hai.!!

Jab Chaha Dil Se Khela Aur Jab Chaha Khub Batiya.!

Dil Todna-Jodna Mano Husn Walon Ki Paidaish Hai.!!

What kind of …


naam.jpeg

मर्दों ने दुनियां में औरत  को खिलौना समझा.!
बेशक कुछ ने उनको जीवन का सार समझा.!!
भोग-विलास की वस्तु जान कुछ सजाते मंडी.!
औरत ने जन्म दिन पर उस को मांस समझा.!!
जन्म लेते ही घर मैं कैदc हो जीवन बिताती.!
बिन अपराध ही सजा का cहक़दार समझा.!!
बाबुल से प्यार करती भाई का शृंगार करती.!
अपने आँगन खिलाया परया संसार समझा.!!
कैसी रीत कैसी प्रीत जीते-जी न माने’सागर’.!.
बेटे को मोक्ष – दवार की  खेवन हार समझा.!!

Love story …


उन्हें मनाने की चाहा में,
इन्हें जलन का कीड़ा दे गया.!
इंदौर वाली क्या मानती,
फिरोजाबादी नाराज कर गया.!!
सच कहा किसी ने यारो,
जलन की पीड़ा ने ढाये सितम.!
एक पट्टी नहीं थी और,
दूजी का कोप-भजन गा गया.!!
अभी तो अच्छा था उस,
ब्राज़ीलियाई को हिंदी न आती.!
वरना ‘सागर‘ तय था,
जूतों का हार और शृंगार गया.!!
लाहौर वाली का क्या,
वीजा प्रॉब्लम बता बच सकता.!
वैसे कुड़ी पंजाबन है,
टप्पे से फ़ोन पर इजहार गया.!!

hasna mna.jpg

Can’t Forget You…


मेरे शेरों में इतनी ज़ुस्तज़ू कहाँ,
जो ला सकूँ फिर से तुझे अपने करीब.!
बस अब तो बीती यादें ही हैं पास,
जिन्हें याद कर जी रहा हूँ अब तक.!!
दुनियां दिल बहलाती वाह-वाह करती,
किसे फुर्सत जाने दर्द है किसकी जुदाई का.!
दिन गुज़ारे ख्यालों में रात करवट बदल,
लोग समझते हैं कोई बेवजह आदत है.!!
ग़ज़ल न लिखी जाए जो जिक्कर न हो उनका,
हर लफ्ज़ लिखा तस्वीर आँखों में रख.!

कोई दवा ला कर दो जो भुला सकूँ उनको,
या खुदा अपने’सागर’को वापिस अपने पास रख.!!

heart.jpg

Mere  Shairon  Mein  Itni  Zustzoo Kahan,

Jo La  Sakun Phir  Se  Tujhe  Apne Kareeb.!

Bas  Ab  To  Beeti  Yaadein  Hi  Hain Pass,

Jinhein  Yaad  Kar  Jee  Raha  Hun  Ab Tak.!!

Duniyan  Dil  Behalati  Waah – Waah Karti,

Kise  Fursat  Jaane  Dard  Hai Kiski Judai Ka.!

Din Guzare Khayalon Mein Raat Karwat Badal,

Log Samajhte Hain Koyi Bewajah Aadat Hai.!!

Gazal Na Likhi Jaaye Jo Zikkar Na Ho Unka,

Har Lafz Likha Tasweer Aankhon Mein Rakh.!

Koyi Dawa La Kar Do Jo Bhula Sakun Unko,

Ya Khuda Apne’Sagar‘Ko Wapis Apne Pas Rakh.!!

 

Stubbornness…


gurunanakji

क्यों जानने की ज़िद्द है,
किसी  का  प्यार  पहचानने  की  ज़िद्द है.!
सभी को हक़ छिपाने का,
क्यों इज़्ज़त किसी की उछालने की ज़िद्द है.!!
अपना गिरेबान पहले देखो,
औरों  की  खिड़कियां  झाँकने  की ज़िद्द है.!
प्यार किया गुनाह नहीं,
ज़िन्दगी किसी की क्यों मिटाने की ज़िद्द है.!!
घर उझड़े किसी का,
कैसी  खूबसूरत  यारो  ये  आप की ज़िद्द है.!
इबादत जैसी होती मुहब्बत,
फिर  ऐसी  क्यों  तोहीन  करने  की ज़िद्द है.!!
रब्ब का खौफ खाओ बन्दों,
मालिक  से  क्यों आगे निकलने की ज़िद्द है.!
खुदा  से  बड़  नहीं  हो,
क्यों  बाद  को  यारो  पपच्छ्ताने  की ज़िद्द है.!!

Kyun Jaanne Ki Zidd Hai,

Kisi Ka Pyaar Pehchanne Ki Zidd Hai.!

Sabhi Ko Haq Chipane Ka,

Kyun Izzat Kisi Ki Uchalne Ki Zidd Hai.!!

Apna Gireban Pahale Dekho,

Auron Ki Khidkiyan Jhankne Ki Zidd Hai.!

Pyaar Kiya Gunaaha Nahin,

Zindagi Kisi Ki Kyun Mitaane Ki Zidd Hai.!!

Ghar Ujhade Kisi Ka,

Kaisi Khubsurat Yaaro Ye Aap Ki Zidd Hai.!

Ibadat Jaisi Hoti Muhabbat,

Phir Aisi Kyun Toheen Karne Ki Zidd Hai.!!

Rabb Ka Khauf Khao Bando,

Maalik Se Kyun Aage Nikalne  Ki Zidd Hai.!

Khuda Se Bad Nahin Ho,

Kyun Baad Ko Yaaro Pachchtane Ki Zidd Hai.!!

Beauty Of Indore


खो गया उस की मन-मोहक अदाओं में.!

यार को  प्यार हुआ  इंदौर की भूतनी से.!!
चांदनी  संग  नहाई  शीतल  चांदनी  है.!
यार को इक़रार हुआ इंदौर की भूतनी से.!!
कॉलेज कैंपस में एक छत्र राज उस का.!
इजहार करने लाइन इंदौर की भूतनी से.!
कई बार अपना भी पाला पड़ा था उस से.!
कुछ-कुछ हुआ तब इंदौर की भूतनी से.!!
भूतनी है माना पर बला की खूबसूरत है.!
होंगे  बेक़रार  मिल  इंदौर की भूतनी से.!!

khubsurat.jpg

Kho Gaya Uski Man-Mohak Adaaon Mein.!

Yaar Ko Pyaar Hua Indore Ki Bhootani Se.!!

Chandni Sang Nahai Sheetal Chandni Hai.!

Yaar Ko Iqraar Hua Indore Ki Bhootani Se.!!

College Campus Mein Ek Chatr Raaj Uska.!

Ijahaar Karne Line Indore Ki Bhootani Se.!!

Kai Baar Apna Bhi Paala Pada Thaa Us Se.!

Kuch-Kuch Hua Tab Indore Ki Bhootani Se.!!

Bhootani Hai Mana Par Bla Ki Khubsurat Hai.!

Hoge  Beqraar  Mil  Indore Ki Bhootani Se.!!

One Day.!!


तुझे रातों को जागना होगा.!

हमसफ़र है मेरी मानना होगा.!!

यूँ ही नहीं होता रोज़ मिलना.!
रज़ा खुदा की पहचानना होगा.!!

हर शै तेरा अक्स तलाशा है.!
दिल-ए-ज़ुस्तज़ू को जानना होगा.!!

यूँही परेशान नहीं वहां तुम भी.!
दिल की धड़कनों को सुनना होगा.!!

सागर“से ना पन्गा ले मान जा.!
एक दिन लहरों संग मचलना होगा.!

one day.jpg

Beauty of Heart…


heart.jpg

कम्बखत दिल भी बड़ी अजीब चीज़ है यारो,
जब चाहा खेला किसी से जब चाहा तोडा किसी का.!
दिल आने की ही तो बात आ जाए किसी पर,
अनजान भी हो जाए इक पल में जन्म-जन्मों-सा प्यारा.!!

प्यार दी पूछ(Punjabi Tappa)


जै तुस्सी पंजाबी हो तै तुस्सी टप्पा ना जाणदे हो
एह हो ही नयिं सकदा??
पंजाब दी सोहनी खुशबु दी पहचान होना टप्पा…
अर्ज़ कित्ता हेगा:-

12.jpg

तेनुं  प्यार  दी  कदर  कोई ना,
कद  अस्सी  सौंदे  तेनुं  ज़रा विह खबर कोई ना.!
मेरे प्यार नूं ना आजमा माहिया,
जै तेरी इज़ाज़्ज़त होये तेरा मंझा विह चूक लेवांगा.!!

Good Habit??


बस इतनी-सी है दोस्ती उन की बस इतना-सा फ़साना.!
इंतज़ार करा आना दो पल बतिया चुपके से भाग जाना.!!

freindship.jpg

Bas  Itn – Si Hai Dosti Unki Bas Itna – Sa Fasaana.!

Intzaar Kara Aana Do Pal Batiya Chupke Se Bhag Jana.!!

Her Problem His Tension…


सोशल साइट्स पर की गयी मुहब्बत पर कम ही यक़ीन करना अच्छा रहता है
कौन जाने कब-कहाँ कोई हुस्न अपना प्रोफइल बंद करदे या चलाना ही छोड़ दे?
चाहे शादी हो जाना या कोई और कारन या हो सकता है कोई मजबूरी?
बेचारा इश्क़ तो गया ना बारहां के भाव में?
” एक मित्र महोदय सोशल साइट्स पर इक बड़ी ही हसीं दिलकश हसीना से
दिल लगा बैठे जनाब रात-दिन इंतज़ार करते और उनके ऑनलाइन होते ही
हो जाते चैटिंग करना…
फिर एक दिन अचानक “वो अकाउंट”बंद  हो गया?? “
जनाब का जो हाल हुआ वो देखते ही बनता था??

अर्ज़ किया है:-

freindship.jpg

कैसे एतबार करूँ कैसे तुझ संग मैं प्यार करूँ.!
जाने कब देगा दे जायेगी क्यूँकर इंतज़ार करूँ.!!
हो सकता कोई मजबूरी हो या समझौता कोई.!
बेवफा भी न कहूं क्यों दिल पर अत्याचार करूँ.!!
जब चाहा सवाल किया जब चाहा जवाब दिया.!
तेरे मन-मुताबिक़ ही क्यों मैं हर व्यवहार करूँ.!!
बात किसी संग इश्क़ किसी से ब्याह किसी से.!
सज कहती तेरे लिए ही तो सोलहां-शृंगार करूँ.!!
तेरी कुछ होंगी माना पर मेरी भी मजबूरियां हैं.!
दिल एक बार लगता बार-बार कैसे प्यार करूँ.!!
वक़्त मिला तो मुडकर देखना दीवाने का हाल.!
तन्हा ज़िन्दगी कटती नहीं कैसे सफर यार करूँ.!!

Your Pic…


ज़हर ज़िन्दगी का अब पीना होगा,
तेरे बगैर जहां में जीना होगा.!
कभी होती थी सुबह तुझे देख,
तेर तस्वीर से ही काम लेना होगा.!!

1111.jpg

Zahar Zindagi Ka Ab Peena Hoga,

Tere Bagair Zahan Mein Jeena Hoga.!

Kabhi Hoti Thi Subaha Tujhe Dekh,

Teri Tasweer Se Hi Kaam Lena Hoga.!!

Tell Me…


गर्मी लगे तो A C से काम चला बचा जा सकता.!
तेरे इश्क़ की  गर्मी  से बचने का रास्ता तो बता.!!

Garmi Lage To AC Se Kaam Chala Bacha Ja Sakta.!

Tere Ishq  Ki Garmi Se Bachne Ka Rasta To Bata.!!

Greedy Eyes…


मुक़द्दर से ज्यादा नहीं मिलता किसी को,
फिर कहे आरज़ू बहुत की.!
इंसान की फितरत थोड़े से गुज़ारा नहीं,
रब्ब से हर वक़्त उम्मीद की.!!

 

Muqaddar Se Jyada Nahin Milta Kisi Ko,

Phir  Kahe  Aarzoo  Bahut  Ki.!

Insaan Ki Phitrat Thode Se Guzara Nahin,

Rabb Se Har Waqt Ummeed Ki.!!

Thank You…


तेरे दिल के करीब रह सकूँ बस यही आरज़ू है मेरी.!
मेरी शायरी तेरे दिल को छूती बहुत है जीने के लिए.!!

Confusion…


जो मजा डायरेक्ट बात करने में है वो छुप-छुप कर
करने में नहीं,
तो हजूर आइये फेस तो फेस हो सवाल-जवाब कीजिये ना…..

 

वो कहते हैं 4G डाटा खत्म ही नहीं होता,
इक बार ऑनलाइन होने का वक़्त बता दें,
फिर देखें उनका 4G कैसे 2G होता है.!

पीठ पीछे आते कुछ मैसेज छोड़ ऑफ हो जाते,
फिर भला डाटा कैसे खत्म होगा उनका,
आँख-मिचोली से सिलसिला क्या आगे बढता है.!!

 

Wo Kahte Hain 4G Data Khatam Hi Nahin Hota,

Ik Baar Online Hone Ka Waqt Bata Dein,

Phir Dekhein Unka 4G Kaise 2G Hota Hai.!

 

Pith Piche Aate Kuch Massage Chod Off Ho Jaate,\

Phir Bhala Data Kaise Khatam Hoga Unka,

Aankh-Micholi Se Silsila Kya Aage Badt Hai.!!

Innocence Love…


रातों की नींद चुरा कैसे शान से सोये हुए हो,
कभी सोचा जागते परवाने का क्या हाल हुआ होगा.!
शम्मा न तड़पा अपने बीमार को सामने आ मिल,
जल जाने का जब मुझे खौफ नहीं क्यों डरती मिलनेसे.!!

 

 

Raaton Ki Neend Chura Kaise Shaan Se Soye Hue Ho,

Kabhi Saucha Jagate Parwane Ka Kya Haal Hua Hoga.!

Shamma Na Tadpa Apne Bimaar Ko Samane Aa Mil,

Jal Jane Ka Jab Mujhe Khauf Nahin Kyun Darti Milne Se.!!

आप तो ऐसे ना थे.!!


गिले तुझ को भी होंगे बहुत,
मुझे भी शिकवे हैं कई.!!
जन्म-दिन मुबारक ना लिखा,
बेशक तोहफे मिले हैं कई.!!

 

Gile Tujh Ko Bhi Honge Bahut,

Mujhe  Bhi  Shikawe  Hain  Kai.!

Janm-Din Mubarak Naa Likha,

Besha Tohfe  Mile  Hain Kai.!!

OMG


छुप – छुप  मुंह  अँधेरे ऑन लाइन हो,
अपनी कह-सुन ऑफ़ लाइन हो जाना कोई उनसे सीखे.!
हुस्न वालों के और कितने सितम मौल्ला,
मुहब्बत  करनी  सीखी  सितम  करने  ना  सीखे.!!

 

Chup-Chup Munh Andhere Online Ho,

Apni Keh-Sun Off Line Ho Jana Koyi Unse Seekhe.!

Husn Walon Ke Aur Kitne Sitam Maulla,

Muhabbat Karni Seekhi Sitam Karne Naa Seekhe.!!

Time Will Come…


वक़्त पर ना आना कोई उनसे सीखे,
दिन-रात तड़पाना कोई उनसे सीखे.!
एक दिन अपना भी आएगा ज़रूर’सागर‘,
जब पीछे-पीछे होंगे वो आगे-आगे हम.!!

 

Waqt Par Naa Aana Koyi Unse Seekhe,

Din-Raat Tadpana Koyi Unse Seekhe.!

Ek Din Apna Bhi Aayega Zarur ‘Sagar‘,

Jab Piche-Piche Honge Wo Aage-Aage Hum.!!

‘Feelings’ Devoted to You…


गुज़रे लम्हों  की  सौगात  बन गया हूँ.!
तेरे ख्यालों में  खो  ख्याल हो गया हूँ.!! 

सूरज की पहली किरण याद कराती.!
तेरे  बिन  जीने  को ही तरस गया हूँ.!!

इक सवाल-सा बन रह गयी ज़िन्दगी.!
उलझे सवालों का जवाब  हो  गया हूँ.!!

आ छोड़ सारे  रिवाजों  को छोड़ कर.!
डूबती सांसें मगर इंतज़ार कर रहा हूँ.!!

बोले  आ  ढूंढें  इस  शहर  में  शायरी.!
नादान तेरे तीर से ही तो घायल हुआ हूँ.!!

यूँ ही नहीं तेरे दिल को भाती  मेरी बातें.!
गौर से देख आइना आँखों में बस गया हूँ.!!

यूँ ना छेड़ सांसों को अपनी खुशबू से.!
तेरी चाहत में पढ़ दीवाना बन गया हूँ.!!

लफ़्ज़ों में ज़ुस्तज़ू’सागर‘की गहराई है.!
तन्हाई में अक्सर  ग़ज़ल लिख  गया हूँ.!!

UdikaN YaaraN DiyaN..


 मंगना – सी  तै  कुछ  होर  ही मंग लैंदे
दिल  की  चीज़  यारां  दी  जां मंग लैंदे.!
अस्सी मर गए उड़िकान कर-कर तवाडही,
अपने शहर विच अपना दीदार करा देंदे.!!

डेरा पा अस्सी बैठेाँ तवाडेह शहर विच,
मित्तरां नूं  सावां – दा  हार पहनवा देंदे.!
गड़ी  चल  देगी  जदन  यारा  शहर तुं,
सोचेंगी काश ‘सागर‘ नूं हाल-ए-दिल कह लौंडे.!!

अख मारो या सौटा सुट्टो साहड़े सर उत्ते,
मगरूण यार नाल कुज हंसी-मजाक कर लैंदे.!
बुए खोल बैठा”सागर‘दिल दे सारे मित्तरा,
कदी तै ख़यालां वालयो अखां चार कर लैंदे.!!

Mngna-Si Tai Kuch Hor Hi Mang Lainde,

Dil Kee Cheez Yaaran-Di Jaan Mang Lainde.!

Assi Mar Gaye Udikan Kar-Kar Twahdi,

Apne Shahar Wich Apna Deedar Kara Deinde.!!

Dera Paa Aise Baithe Aan Twadhe Shahar Wich,

Mitran Nun Sawan-Da Haar Pehanwa Deinde.!

Gadi Chal Degi Jadan Yaara Shahar Tun,

Sochoge Kash’Sagar‘Nun Dil-E-Hal Keh Launde.!!

Akh Maaro Ya Sauta Sutto Sahade Sar Utte,

Magarun Yaar Naal Kuz Hansi-Majak Kar Lainde.!

Bue Khol Waitha’Sagar‘Dil De Saare Mittra,

Kadi Tai Khayalan Walayo Akhan Char Kar Lainde.!!

Recharge.!!


गर है पाक मुहब्बत तो,
मेरे मेहबूब रोज़ ऑनलाइन हो जाया करो.!
ऑफ़ लाइन रह न बात बनेगी,
4जी नेट का रिचार्ज लम्बा कराया करो.!!

 

Gar Hai Pak Muhabbat To,

Mere Mehboob Roz Online Ho Jaya Karo.!

Off Line Reh Na Baat Banegi,

4G Net Ka Recharge Lamba Karaya Karo.!!

%d bloggers like this: