कभी धुप कभी शाम..//


उतार-चढ़ाव भरी ज़िन्दगी में सुख-दुःख तो आते ही रहते हैं,
यही जीवन है और इसका अनमोल सार…
अर्ज़ किया है :–

कभी धुप बन,
कभी शाम बन,
ज़िन्दगी में चली आती थी./
होले-होले और,
चुपके से वो,
पास आ कर मुस्कुराती थी.//

मर-मरी हाथों,
शरबती आँखों संग,
जुल्फों में कैद कर जाती थी./
वही जीवन है,
जीवन का श्रंगार है,
एहसास यही करा जाती थी.//

वक़्त गुज़रा वो,
खवाब हैं बिखरे,
ज़िन्दगी क्या-क्या दिखती है./
होता वही जो,
रब्ब है चाहे,
ज़िन्दगी देर से समझाती है.//

कभी धुप बन,

Kabhi dhoop ban,

Kabhi shaam ban,

Zindagi mein chali aati thi.!

Hole-hole aur,

Chupke se wo,

Pas aa kar muskurati thi.!!

Mar-mari hathon,

Sharbati aankhon sang,

Julfon mein kaid kar jaati thi.!

Wahi jiwan hai,

Jiwan sjarngar hai,

Ehasas yahi kara jaati thi.!!

Waqt guzra wo,

Khwab hain bikhare,

Zindagi kya-kya dikhati hai.!

Hota wahi jo,

Rabb hai chahe,

Zindagi der se samjhati hai.!!

About Dilkash Shayari

All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on June 19, 2018, in Ghazals Zone. Bookmark the permalink. 2 Comments.

Comments / आपके विचार ही हमारे लिखने का पैमाना हैं.....ज़रूर दीजिये...

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: