तुम जीवन का सार हो..!!(Dedicated)


श्रृंगार और प्रेम रस से समायोजित सजनी के लिए लिखी गई कविता प्रेषित है:

तुम जीवन का सार ही

This slideshow requires JavaScript.

चन्दा से भी सुन्दर,
तुम्हारी सूरत है.!
ईशवर की बनाई,
बेमिसाल मूरत है.!!

तुम्ही हो जीवन,
तुमसे रफ़्तार है.!
सजनी तुम्हीं संग,
जीवन में शृंगार है.!!

मांग का ये सिन्दूर,
होने का एहसास है.!
आँखों का कजरा,
सपनों की बरसात है.!!

तुम्हारी सांसों से,
ज़िंदा सांसें हैं.!
तुम हो आँगन तो,
हर और बहार है.!!

बगिया के ये फूल,
रोशन तुम्हीं से हैं.!
कल-आज-कल की,
पीढ़ियों के निशाँ हैं.!!

करती शिकायत हरदम,
मुझ पे नहीं लिखते.!
पगली जानती नहीं,
शब्दों में विराजमान है.!!

 

 

“Tum Jiwan Ka Saar Ho”

 

Chanda se bhi sundar,

Tumhari surat hai.!

Ishwar ki banai,

Bemisaal murat hai.!!

Tumhin ho jiwan,

Tumse raftaar hai.!

Sajni tunhin sang,

Jiwan mein shrangar hai.!!

Maang ka ye sinur,

Hone ka ehsaas hai.!

Aankhon ka kajra,

Sapnon ki barsat hai.!!

Tumhari sanso se,

Zinda sansein hain.!

Tum ho aangan to,

Har aur bahaar hai.!!

Bagiya ke ye phool,

Roshan tumhin se hain.!

Kal-aaj-kal ki,

Pidhiyon ke nishan hain.!!

Krti shiqyat hardam,

Mujh pe nahin likhte.!

Pagali  jaanti nahin,

Shabdon mein virajman hai.!!

About Dilkash Shayari

All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on June 11, 2018, in Nagama-e-Dil Shayari. Bookmark the permalink. Leave a comment.

Comments / आपके विचार ही हमारे लिखने का पैमाना हैं.....ज़रूर दीजिये...

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: