Views

You can also be get listed in top Shayars

In this section of Dilkash Shayari You can browse all the topics of Shayari. Dilkash Shayari is the world’s alone website which provide Shayaris in most appropriate and well managed categories. You can suggest any other Shayari topics to us, simply by using comments. As we take care of each and every comments of our valuable users. We take care of all our users’ comments and try to give all type of Shayaris they need here on Dilkash Shayari. You can also be a member of https://romanticshayri.wordpress.com/, there are lots of Shayars (Poets and Authors) on Dilkash Shayari. As they use to publish their own and good Shayaris with us. We respect all kind of poets who write their own, original shayari. For those who have more affection with Shayari and https://romanticshayri.wordpress.com/, we authorize them to be premium member of our site. A premium member can immediately publish his Shayari and can even approve others pending Shayaris. To be a premium member just keep submitting your own and original Shayaris until we assign you a premium member. Please Note we do not accept copied Shayaris from other websites, a member submitting others’ Shayari can never be premium member of Dilkash Shayari.

 

554049_312966772104001_1923803778_n

 

NOTE:-

फोटो का प्रयोग मात्र शेर/शायरी की रोचकता बढ़ाने हेतु किया है,
किसी की भावनाओं को ठेस पहुचना इसका उद्देश् नही है!
किंतु फिर भी यदि किसी को बुरा लगे तो वो प्रेषित फोटो के
बारे में हमें लिखे उसे हम डेलीट{हटा} कर देंगे और इस के
लिए हम आप से पूर्व में ही खेद व्यक्‍त करते हैं!

  1. Mohd.Arif "Cheetal"

    Ye kaisi hawa chali hai gagan mein
    Badla Badla sa mizaaj hai angan mein
    Kabhi phoolon ki tarha mehakti thi bagiya Arif
    Aaj kyon mayusi nazar aati hai chaman mein..

    Like

  2. Mohd.Arif "Cheetal"

    Muflisi ke iss daur mein woh bhi thenga dikha kar nikal liye Arif,
    Ta Qayamat har haal mein saath nibhane ki kasme khai thi jinhone..

    Like

  3. Mai sher hu isliye abhi zindaa hoon..
    kisi ke dil ke ehsaas ka numainda hoon..

    Bahot Nafrat ghuli hai mere sheher me..
    Aman ke zariye ka mai wo parinda hoon..

    Like

  4. Mohd.Arif "Cheetal"

    Meri khamoshi mujhe gunehgar banati hai,
    Log kehte hai wo aaj bhi mujhe chahti hai,
    Haqeeqat kya hai ye koi nahi janta Arif,
    Wo (be)wafa aaj bhi mujhe bahut yaad aati hai

    Like

  5. Mohd.Arif "Cheetal"

    Meri khamoshi mujhe gunehgar banati hai,
    Log kehte hai wo aaj bhi mujhe chahti hai,
    Haqeeqat kya hai ye koi nahi janta Arif,
    Wo(be)wafa aaj bhi mujhe bahut yaad aati hai..

    Like

  6. Mohd.Arif "Cheetal"

    Meri khamoshi mujhe gunehgar banati hai,
    Log kehte hai wo aaj bhi mujhe chahti hai,
    Haqeeqat kya hai ye koi nahi janta Arif,
    Wo B wafa aaj bhi mujhe bahut yaad aati hai..

    Like

  7. Mohd.Arif "Cheetal"

    Meri gustakhiyon per bhi wo muskura dete hai Arif,
    Hai koi mujhse badhker naseebwala iss jahan mein..

    Liked by 1 person

  8. Neeraj kathayat

    I wrote many of..here it is

    1)”khusnasib he vo, jinhe us khuda ne badi fitrat se he bnaya,,

    Pal pal ki shiddato ke bad,is nachij se milvaya,,

    Kehte h unke liye nhi he,aj b chahne valo ki kami,,

    Magar unhone to ajtk,sirf hmse hi aitbar jataya”.

    2)”khuda hmari amanat ko is kadar , takdir- e karib layga,,

    Har lamha unki khushbu ko, tarashne me jut jyga,,

    Unko to pana hi hmari fitrat h ab,,

    To bhala kese unka dil, hamare bageer lut jayga”..

    Like

  9. Mohd.Arif "Cheetal"

    Pyar ko ilzaam na do pyar matlabi nahi hota,
    Jo matlabi hota hai wo pyar pyar nahi hota
    Hum to haal e dil apna bayan kar sakte hai Arif,
    Hum tadapte rehte hai tabtak jabtak unka deedar nahi hota..

    Like

  10. Meenakshi pandey

    Tere aansuon ne mera dard badha diya
    waha tera sapna tuta yaha mera dil jala diya
    Is guroor-e-muhobbat ne ise junoon-e-ishq kya bna diya
    Waha tera dil fanaah hua yaha humne khud ko mita diya

    Liked by 1 person

  11. Mohd.Arif "Cheetal"

    Tere gham mein kuch iskadar gumnaam ho gaye hai Arif,
    Log mujhse he mere ghar ka pata poochne lage hai..

    Like

  12. hr bar zindgi..rang tu lal dikha kr mujko krib bulati h..jese hi me fir se bhrosa krti hu..tu aankho me fir laal mirch jhonk jati h♦️

    Liked by 1 person

  13. Mohd.Arif "Cheetal"

    Bada gumaan tha hume guzar lenge zindagi Tere bin,
    Ab aalam ye hai na kati hai raate na guzarta hai din,
    Ek baar laut aao tumhe khuda ka wasta Arif,
    Tadapte dil ki faryad sun meri galtiyan na gin..

    Like

  14. Mohd.Arif "Cheetal"

    Mayusi ki chadar mein lipta ye murdaie(murda sa)zism mera ,
    Aap ke bewafa hone ki gawahi deta hai,
    Logo ki ye tohmat nagawar lagti hai Arif,
    kyon nahi khuda iss zism ko hi fana kar deta hai..

    Like

  15. Mohd.Arif "Cheetal"

    Aap ki baat na mane ye ho nahi sakta,
    Afsos khone ko ab mere pass kuch bacha nahi,
    Kahin aur dil lagane ke mashware ka shukriya aye dost,
    Magar kiya kare aapke siva hame koi aur bhata nahi,
    Lakh kaushish ki manane ki iss dil ko Arif,
    Dil hai ki dobara tutna chahta nahi..

    Liked by 1 person

  16. Mohd.Arif "Cheetal"

    Bandh lenge tumhe apne pyar ki zanjeer mein,
    Kudrat ne likha hai tumhe meri taqdeer mein
    Yaqeen nahin toh puch lo apne dil Se,
    Jhooth boloo ye nahi hai mere zameer mein,
    Ye pyar ka rishta aasmaani hai Arif,
    Mera aks dekhega tumhare haathon ki lakeer mein,,

    Like

  17. Kisiko itna na chaho ki wo tumhaari aadat ban jaye, chahat aisi ho ki wo tumhari ibadat ban jaye, yun chor jana uske dil ki ret par apne kadmon ke nisaan, ki tumhe yaad krna har lamha uski jarurat ban jaye….

    Liked by 1 person

  18. Mohd.Arif "Cheetal"

    Maut se jakar keh do aye farishton
    Mohabbat walon se panga na le..

    Like

  19. Iss barsaat kuch aisa ho jaye saamne mehboob ho aur waqt thehar jaye, choot ke rang daaman se uske hmaare dil me utar jaye wo rahe madhosh ar waqt thehar jaye, ab to bas arzoo hai dil se ki ruk jaye saansein unki baahon me to koi gum nahi, bas aakhri lamha ho kuch aisa ki aankhon me tum raho ar waqt thehar jaye…….

    Like

  20. Mohd.Arif "Cheetal"

    Tum pyar ho mera koi hamdard nahi
    Dil ka Sukoon ho mera koi dard nahi
    Humne toh tajurbe se seekha hai Arif
    Jo pyar mein Bewafai kare wo mard nahi..

    Like

  21. Mohd.Arif "Cheetal "

    Unki khamoshi ko bhi hum Unki ada samajh baithe Arif
    Wo khamoshi se aye
    Aur hamesh ke liye mujhe khamosh kar gaye

    Like

  22. Mohd.Arif "Cheetal"

    Maa-Baap ko agar tum sataoge
    dekh lena ek din bahut pachtaoge
    Sab kuch mil jayega duniya ki iss mandi mein
    Maa-Baap ko bas dhoondte rehjaoge..

    Like

  23. Mohd.Arif"Cheetal"

    Jee Raha Hun Intezaar Mein Uske Arif

    Khayal Bhar Se Hi Jiske Rooh Kaap Jaati Thi..

    Liked by 1 person

  24. Kitni bebaas hoon kismat keh ageh
    kitni tanha hoon tere pyar ke ageh…

    Liked by 1 person

  25. Hi…thank u so much for following my blog…i am browsing thru your blog too…it is interesting…i used to write shayari when I was young…I’ll have to look for my old book coz now i believe i can put a few here.

    Liked by 1 person

  26. Well,I’m Waiting.Thanks for Reply Anuadha Mukherjee ji.

    Like

  27. Mohd.Arif"Cheetal"

    Kiye The Zulm Jinki Khatir Bata Unse kya Paya

    Qabr Mein Soona Pada Hai ARIF Koi Fatiha Padhne Bhi Na Aaya..

    Liked by 1 person

  28. Mohd.Arif"Cheetal"

    Do Love and Respect your parents,before it’s late

    Baad marne ke salaam Aaya toh kya Aaya ARIF

    Happy Father Day

    Mohd Arif”Cheetal”

    Like

  29. Mohd.Arif"Cheetal"

    Wo Aksar Poochtay Hai Kitna Chahte Ho Hume

    Hum Adab Se Kehte Hai Humari Chahat Ka Koi Paimana Nahi

    Dil Diya Hai Jaan Bhi Ek Din Kar Denge Tere Naam

    Humse Badhkar Iss Duniya Main Aur Koi Deewana Nahi

    Pyaar ke Badle Pyaar Ki Chahat Koi Gunah Nahi Hai ARIF

    Bas Kudara Ab Tu Humein Aur Azmana Nahi

    Tune Diye Jo Gham Toh Mar Jayenge Hum Khuda Ki Kasam

    Tera Gham Jo Bhula De Aisa Jahan Mein Koi Maikhana Nahi

    Mohd Arif “Cheetal”

    Liked by 1 person

  30. Mohd.Arif"Cheetal"

    Khushiyon ki Hai Saugat

                                  Chalo EID Mana Le
    

    Bhula kar Kar Sabhi

                                Gile Shikwe ARIF
    

    Ise Yaadgar Bana Le

    MOHD ARIF. ” CHEETAL ”
    MUZAFFARNAGARI

    Liked by 1 person

  31. Mohd.Arif"Cheetal"

    Khushiyon ki Hai Saugat Chalo EID Mana Le
    Bhula kar Sabhi Gile Shikwe ARIF
    Ise Yaadgar Bana Le
    MOHD ARIF” CHEETAL”
    Muzaffarnagari

    Like

  32. Mohd.Arif"Cheetal"

    Teri Roj Ki Sharton Se Kahin Aajiz Na Aa Jaun Main ARIF

    Log Ab Sawal Karne Lage Hai

    Mohabbat Ki Hai Ya Tijarat
    Mohd Arif “Cheetal ”
    Muzaffarnagari

    Liked by 1 person

  33. Mohd.Arif"Cheetal"

    Mera Wada Tha Tum Se
    ARIF
    Har Lamha Tumhe Pyaar Karunga

    Tum Jaa Rahe Ho Magar Suno
    Aakhri Saans Tak Tumhare Laut
    Aane Ka Intezaar Karunga…

    Mohd Arif “Cheetal. ”
    Muzaffarnagari

    Liked by 1 person

  34. Mohd.Arif"Cheetal"

    Teri Aankh Ke Aansoo

    Ban Ke Nashter

    Mere Seene Mein

    Utarte Hai ARIF

    Tu Muskurana Seekh Le

    Ya Phir Mera Iss Duniya Se

    Parde Ka Intazaam Kar De..

    Mohd.Arif “Cheetal”
    Muzaffarnagari

    Like

  35. 20) Life tells us about its usefulness…

    The daylight  brings happiness in life,
    Bringing new emotions,
    Then gradually the sunset …

    At midnight,
    The whole moon comes out,
    Stole the heart from the shadow …

    Rainy weather brings wind storm,
    From the noise of lightning,
    The pond river gets stunned …

    Humans, animals and birds  all the rainy season,
    Reminiscent of home wood cabin-tree-cave,
    Life tells us about its usefulness …

    दिन का प्रकाश जीवन में खुशियां लाता,
    नई-नई उमंगें ले आता,
    फिर धीरे-धीरे सूर्यास्त हो जाता…

    आधी रात के वक़्त,
    पूरा चाँद निकल आता,
    अपनी छैया से दिल चुरा ले जाता…

    बारिश का मौसम हवा-आंधी लाता,
    आकाशीय बिजली के शोर से,
    तालाब नदी में झनझाहट हो जाती…

    मनुष्य-पशु-पक्षी सबको रिमझिम बारिश,
    घर लकड़ी केबिन-पेड़-गुफा की याद दिलाती,
    जीवन को इनकी उपयोगिता बताती…

    22)

    ज़िन्दगी एक बार मिलती,
    मुहब्बत भी एक बार मिलती,
    गुज़रा वक़्त वापिस नहीं आता,
    चलो दिल की भावनाओं को ठीक करते हैं,
    प्यार में मिलकर नाम करते हैं…

    Get life once,
    Love also meets once,
    Passed time does not come back,
    let’s heal heart’s feelings,
    Let us name together in love …

    01.)When bad times come in life,
    Everything falls apart.!
    Those who were more confident,
    They stand by the shore. !!

    जब बुरा वक़्त आता जीवन में,
    सब कुछ बिखर जाता.!
    जिन पर होता ज्यादा यक़ीन,
    वही हो जाते किनारे से.!!

    1) Beautiful looks,
    There are only lonely hills,
    With trees and rustling leaves.!.

    Moon and calm nights,
    It’s season of love,
    We are in each other’s arms. !!

    खूबसूरत मंजर है,
    पेड़-पौधे और जंगली पत्तियों भरी,
    तन्हा पहाड़ियां हैं.!

    चंद्रमा और शांत प्रवाह भरी रातें,
    प्यार करने का मौसम है ,
    हम एक दूसरे की बाँहों में हैं.!!

    2)Your eyes are the cups of wine,    

    Your heart is like Love scale,                    

    Do not tolerate tears in your eyes,            
    Before this fall on the ground,                    

    I will hold in my eyes…                                             

     Kissing flowers,      

    Thinking it is your body,                                                      

     Find you in magical buds,                                          

    Sometimes we will be together,                                  

     Then our love will be Shine…   

           

    तुम्हारी आँखें हैं मय के प्याले, 
    दिल है जैसे प्यार के पैमाने, 
    तुम्हारी आँखों में आंसूं मंजूर नहीं,
    इससे पहले ज़मीं पर गिरें,
    अपनी आँखों में ले लूंगा…                     

    चूमता हूँ फूलों को,  
    सोच तुम्हारा बदन है,
    महकती कलियों में ढूंढ़ता तुम्हें,
    कभी तो साथ होंगे हम,
    तब रोशन होगी हमारी मुहब्बत…

                     

    माना चाँद सितारों से घिरा,
    फिर भी चाँद अकेला है.!
    तड़पता है तरसता है,
    कितना चाँद अकेला है.!!
    Believed moon is surrounded by stars,
    Yet the moon is alone.!
    Agony It hurts,
    How much moon is alone. !!
    प्यार क्या है…
    मीठी-मीठी बातें,
    कुछ कसमें,
    कुछ वादे,
    शिकवे और,
    शिकायतें,
    मिलन,
    बेक़रारी,
    इंतज़ार और इंतज़ार…
    प्यार क्या है…
    दिलों का मिलन,
    सपनों की उड़ान,
    कुछ ख्वाहिशें,
    एक विचार,
    आपसी विश्वास,
    तालमेल ,
    साथ निभाने की सोच,
    जन्म-जन्म के रिश्ते,

    What’s love…
    Sweet words,
    Some Swearing,
    Some promises,
    Teach and,
    Complaints,
    Get together,
    Yearning,
    Waiting & waiting…

    What’s love…
    Union of hearts
    Dream’s Flight,
    Some wishes,
    One thought,
    Mutual trust,
    Good understanding.
    Thinking to play together,
    Birth-birth’s relationships…

    ❤️I❤️
    जो बात करे कईओं से,
    वो कभी जवाब क़ाबिल नहीं.!
    माना”सागर”हूँ यारो,
    सबको समाने की आदत नहीं.!!
    ❤️I❤️

    कोई आपको Like -Comment करता-देता रहे और आप
    कंजूस बने रहे….कैसे संभव है..??
    Like दीजिये Like लीजिये और Comments भी.वरना….

    1)यूँ ही नहीं हुआ तेरा मेरा यूँ मिलना.!
    कोई रज़ा है जो रात-भर है मिलना.!!

    बाइस की उम्र अदाओं से लबा-लब.!
    यूँ ना इतरा मुश्किल मुझ-सा मिलना.!!

    ना पूछ मुझसे मेरी चाहत की उड़ान.!
    हर जन्म यूँ ही होगा तेरा-मेरा मिलना.!!

    कुछ शिकात-शिकवे तुझे होंगे ज़रूर.!
    इतना आसां नहीं मेहबूब का मिलना.!!

    इधर परेशां “सागर” उधर तूं परेशां.!
    कब ख़त्म होगा छिप-छिप मिलना.!!

    2)ना पूछ मुझसे मेरी कितनी है उम्र.!
    सदियों तक पढ़ा जाऊंगा युगों तक ज़िंदा रहूँगा.!!
    33333)

    सुबहा की लाली दोपहर-शाम,
    यारा’सागर‘से मिलने ना आया करो.!
    रुसवा हो जाओगे बेहतर है,
    देर रात ऑन लाइन हो जाया करो.!!

    Subaha Ki Laali Dopahar-Shaam,
    Yaara’Sagar‘Se Milne Na Aaya Karo.!
    Ruswa Ho Jaaoge Behtar Hai,
    Der Raat On Line Ho Jaaya Karo.!!

    O Sahnu Kainde Rola-Rappa PaaO,
    Aape Bach Syappa Sadhe Sar PaaO.!!

    Udikan kar kar mar jande si,
    “Sagar”kinna tadpande si.!
    Na raat da khyal na gin da,
    Ishq syapa sar kyun pande si.!!”

    बहुत खूब है हुस्न-ए-जाना की तस्वीर.!
    तन्हाई में दिल बहलाने काम तो आती.!!

    Ishq Ich Maahiya DooriyaN Jyada Mayne Ni RakhdiyaN.!
    Gar Sachi Hoye Muhabbat Te”Sagar”Yaar Da Milna Sokha.!!

    एक उलझन उधर भी है यारो,
    इधर भी दिल बड़ा बेताब.!
    इश्क़ की यही दुश्वारियां’सागर’,
    धड़कने हो जाती नामुराद.!!!

    Baat Na Karne Ki Lagta Aaj Usne Kasam Khai Hai.!

    Tabhi To Gauri Chup-Chup Kar Online Ho Aai Hai.!!

    Azi Garm Mausam Mein Itani Garmi Theek Nahin.!

    Teri Gali Ganna-Charkhi Lagane Ki Khwahish Hai.!!

    Kal Tak To Khub Batiya Rahi Thi Deewana Kar Gai.!

    Lagta Mummy Ne Net Karne Par Pabandi Lagai Hai.!!

    Khud Hi Sauch Kab Tak Teri Khatir Likhte Raheinge.!

    Kadam Meri Gazal Ki Bhi To Ithaan Ho Aai Hai.!!

    महताब को अक्सर देखा है,
    आफताब की नज़र पाने खातिर.!
    ज़मीन की ख्वाहिश कहाँ पूरी,
    फल्क को छूने-पाने की खातिर.!!

    Ye Sach Hai’Sagar’Nakami Insaan Ko Tajurbekar Bana Deti.!
    Garmi Baad Hi Barsat Ujhade Chaman Mein Bahar Laa Deti.!!

    Wo Nahin-Nahin Kar’Sagar’Har Baat Keh Gaye.!
    Sukhe Phoolo Ko Khila Gul-o-Gulzaar Kar Gaye.!!

    Bahut Khub Unka Isharon Mein Muskurana,

    Kuch Na Keh Kar Bhi Bahut Kuch Keh Jaana.!

    Khuda Deta Hai Kisi-Kisi Ko Ye Hunar’Sagar’,

    Sharmaana Bhi Aur Ada Se Itraa Bhi Jaana.!!

    1.
    Kitabon Mein Hi Milte Ab Pak Wafa Ke Kisse ‘Sagar’.!

    Wo Zamana Guzra Jab Radha-Krishan-si Wafa Hoti Thi.!!

    किताबों में ही मिलते अब पाक वफ़ा के किस्से’सागर’.!
    वो ज़माना गुज़रा जब राधा-कृशन-सी वफ़ा होती थी.!!

    Wo Husn Kis Kaam Ka Jo Auron Ko Sukh Na De Sake.!
    Insaan Ki Aadtein Waqt Guzare Baad Bhi Yaad Ki Jaati.!!

    The Girl You Loved Is Gone

    Muhabbat Dil Mein Ho To Har Manzil Aasan Dikhati.!

    Gar Zazba Kare Insaan Dooriyan Bhi Mit Jaati Hain.!!

    *Jinhein Preshaan Hone Ki Aadat Hai,

    Muhabbat Kar Mukar Jaane Ki Phitrat Hai.!

    Wahi Sauchte Khushnaseebi-Badnaseebi,

    Warna Pyaar Karne Walon Ko Kahan Itni Phurast Hai.!!

    Jab Tak Hai DuniyAan Aur Is Qaynat Ki Rasmein,

    Yaqeen Gairon Par Bhi Karna Hoga.!

    Sachcha Pyaar Karne Walon Ki Kami Nahin’Sagar’,

    Zarurat Apnon Ko Pehchanne Ki.!!

    Lutna Insaan Ki Apni Hi Kami Hai,

    Bewafa Ko Na Samjhna Bhi To Kami Hai.!

    ‘Sagar’Ki Gehrai Mein Bhi Kami Hai,

    Par Duniyan Dekhne Waste To’…..’Hai.!! 

    1)Gar Kabhi Pyaar Ho Jaaye Qabool Kar Lena,

    Ik Baar Kisi Par Kabhi Etabaar Kar Lena.!

    Maana Duniyan Mein Frebiyon Ki Kami Nahin,

    Ho Sake To’Sagar’Se Hi Iqraar Kar Lena.!!

    जाने वाले वापिस आने वास्ते नहीं जाते ‘सागर;.!
    अगर ऐसा होता सौचो ज़िंदगी से जाते ही क्यूँ.!!

    ना-ना करते भी ‘सागर’आख़िर उनको शायर बना दिया.!
    जो बातें करते थे दिल ना देने की क़ातिल बना दिया.!!

    उम्मीद जब हद से बढ़ जाती है’सागर’,
    अंजाम अच्छा नहीं होता.!
    ना हो पूरी तो दर्द-ए-दिल बढ़ जाता है,
    जीना मुश्किल हो जाताहै.!!

    उफ़ ! सुन-सुन इस शी के फ़साने,
    सीने से कालेज बाहर निकल रहा है.!
    ‘सागर’गर इतनी वेदना में है ये तो,
    इसका दिल क्यों नहीं पिगल रहा है.!!

    Wo Mehanat Karein Aur Kamyab Na Hon’Sagar’.!
    Ye Baat Kabhi Khuda Ko Manjoor Nahin’Sagar’.!!

    जीवन एक खुद ही सफर है,,
    अनजानी जानी राहों पर चलने वाल’सागर’.!
    हर दिन इक नया तजुर्बा है,
    कभी ख़ुशी कभी गम दे आगे बढ़ने वाला.!!

    ‘Duniyan Mein Maan Se Behtar Na Koyi Hai Na Hoga.!
    Jab Aayega Mushkilon Ka Daur Maan Ka Sath Har Jagaha Hoga.!!’

    1) Aapki Tareef Sar Mathey-Par,
    Kuch Laiy Mein Farmaate To Aur Baat Hoti.!
    Jo Baat Aapki Shayari Mein Hai,
    Wo Baat Shayari Kar Keh JateAur Baat Hoti.!!

    2( Kagaz Kalam Utha Gar Baat Dil Ki Kahni Pade’Sagar’.!
    Bezuban Ho Jayegi Muhabbat Kaun Karega Phir Ulfat.!!

    वो दोस्ती क्या जिसका डर हर वक़्त टूटने का हो’सागर’.!
    यार खातिर जिए यार खातिर मरे वही दोस्ती है'[सागर’.!!
    Nayin Tut Si Yaari Jedi Lagi Kunwaryan Di.!
    Gaddi Turdi Ohi JJedi Bhari Sawriyan Di.!!
    @
    दिल कहता गे हम लिखते रहे,
    लोग समझे हम शायर हो गये.!
    दिल लगा लीजिए देखिए फिर,
    ‘सागर’ से कितने बेहतर हो गये.!!

    बैठे हो किसके इंतज़ार में,
    मगरूर भी हो खूब भी.!
    “सागर” भी कुछ कम नहीं,
    मशहूर भी मगरूर भी.!!

    Like

  36. Mohd.Arif"Cheetal"

    Mumkin Nahi Hai Abhi Unse Milne Mera Yaaron

    Waqt Ke Diye Zakhmo ko Zaraa Bharne Dijiye

    Wo Magroor Hai Husn O Jamaal Per Apne Na Jaane Kyoon

    Judai Mein Unke Iss Bharam Ko Zaraa Tootne Dijiye

    Galat Fehmi Ki Udasi Abhi Baaki Hai Fiza Mein

    Phir Se Dil Ki Kaliyon Ko Zaraa Khilne Dijiye

    Wo Laut kar Aayenge Zaroor Yeh Dil Ki Sada Hai ARIF

    Rah Mein Unki Palkon Ko Zaraa Bichne Dijiye

    Mohd.Arif “Cheetal”
    Muzaffarnagari.

    Liked by 1 person

  37. mera is dard se purana nata hai,jab bhi deedar ho naya hojata hai,fir kyu e kafir tu us ko na bhool pata hai?

    Liked by 1 person

  38. aasikon ke is kafile me aye the hum bhi dil me pyar aur aankhon me arman lekar,fir kyun e zulme sitam,nikal diya tune humko yu is qadar daga dekar.

    Liked by 1 person

  39. Mohd.Arif"Cheetal"

    Mohabbat Mein Bahut Kuch Aana Chahiye

    Wo Muskuraye Agar Toh Muskurana Chahiye

    Wo Roothe Agar Toh
    Manana Chahiye

    Wo Din Ko Raat Kahe Agar Toh
    Raat Kehna Chahiye

    Wo Farmaish Kare Agar Toh Use Poori
    Karna Chahiye

    Yahi Rishton Mein Sukoon Se Jeene Ki Ek Surat Hai ARIF..

    Mohd Arif”Cheetal”
    Muzaffarnagari

    sagarsagarsagar390@gmail.com

    https://giraffestyle.wordpress.com/

    Like

  40. ज़िन्दगी औपचारिकताओं का नाम है”सागर”.!
    जो ना निभा सका असफल रहा यहाँ”सागर”.!!

    दीवाना है दिल घायल है दिल परवाना है,
    कभी भाई बन कभी शायर कभी आशिक़ बन धड़का है दिल.!
    तन्हाई में तड़पा चाहत में मुस्कुराया है,
    कभी गीत कभी ग़ज़ल बन कागज़ पर उतरा”सागर”का दिल.!!

    खुदा का शुक्र है,
    अल्फ़ाज़ तो निकले जुबां से.!
    शक हो चला था,
    यारों के खामोश लबों पर.!!

    बात करने को जहाँ में बहुत कुछ है बाकी “सागर”.!
    क्या करें इन चिलग़ोज़ों की जुबां समझ नहीं आती.!!

    हुस्न पर इतना गुस्सा शोभा नहीं देता है,
    हर चाहने वाला बेवफा नहीं होता.!
    बात बने ना बने जान-ए-जिग्गर माना है,
    “सागर”के दिल कोई-कोई बसता.!!

    देखने की चाहत उस महताब को जिसकी चांदनी से शीतल जहाँ.!
    माना दुनियां में हैं बहुत हसीं चेहरे”सागर”पर कोई उनसा है कहाँ.!!

    कहते हैं जान देने से पहले,
    इंसान परिन्दे जैसे फड़फड़ाता.!
    रुकना काम है ज़िन्दगी का,
    “सागर”तूफान से नहीं घबराता.!!

    ज़िन्दगी में गर कुछ पल किसी को हंसा सको,
    मानो बहुत कुछ पा लिया.!
    रुपये-पैसे तो “सागर” जहाँ में सब कमाते हैं,
    इंसान वो कमा लिया.!!

    आपकी वाह-वाही ने,
    डूबती पलकों में खवाब हैं भर दिए.!
    जो कलम रुक चुकी,
    उस में ज़िन्दगी के नए रंग भर दिए.!!

    बस इक बार अपनी तस्वीर दिखा दो,
    मरने का गम ना रहेगा.!
    सांसें जिस्म छोड़ने को है साथी यारा,
    तुझे अफ़सोस ना रहेगा.!!

    इक नाम के सिवा और कुछ नहीं,
    जो बताऊँ दुनिया को.!
    जो भी था गैर के नाम कर दिया.
    क्या दे जाऊं दुनियां को.!!

    बिकते यहाँ दिल बिकता आदमी भी,
    फिर मुहब्बत क्या चीज़ है.!
    ज़िन्दगी गुज़र गयी उन की आरज़ू में,
    बस मौत की अब उम्मीद है.!!

    शुक्रिया-शुक्रिया आपने किसी लायक समझा.!
    वरना तन्हा खड़े थे बाज़ार में बिकने के लिए.!!

    आपकी एक मुबारक ने दिल को सकूँ बहुत दिया.!
    आप जैसों के दम से “सागर” की शायरी में शुमार.!!

    लोगों ने हरदम किसी के गम में कहकहे ही लगाए “सागर”.!
    ये तो हम थे की फिर भी महफ़िल को सजाये गए” सागर”.!!

    जानता हूँ मेरी न है ना ही होगी,
    फिर भी दुआ दिल से है.!
    हर इम्तहान ज़िन्दगी सफल हो,
    बन्दी उस खुदा की तो है.!!

    बड़ा नाज़ है तुझे खुद पर और अपनी अदावत पर.!
    बचना “सागर”से कहीं दिल हो जाए न बगावत पर.!!

    हर रात तुझे ख्वाबों में देखा है,
    अश्कों भरी आहों में देखा है,
    जानत हूँ गैर है मगर फिर भी,
    फिर भी दिलके करीब देखा है!!

    देखते हैं कब तक इक़रार ना करोगे,
    दिल पर अपना यूँ इख्तयार तुम करोगे.!
    अज़ी इश्क़ की जुम्बिश को देखा कहाँ,
    “सागर”से कभी तुम प्यार जरूर करोगे.!!

    आपकी खता नहीं नहीं.
    हुस्न की यही पुरानी आदत.!
    दिल लगाना इठलाना भी,
    फिर किसी गैर की हो जाना.!!

    मेरे दिल पर इतने वार न कर,
    तेरे इश्क़ का पहले ही मारा हूँ.!
    जितने जुल्म करने करीब तो आ,
    देखना कितना मैं आवारा हूँ.!!

    दूर-दूर से यार बड़ा इतरा रही हो,
    अपने हुस्न के जलवे दिखा रही है.!
    फ्लाइंग किस्स देते घबरा रही हो,
    इतना बेमौल भाव क्यों खा रही हो.!!

    मुक़द्दर वाले वो लोग जिन्हें प्यार हो जाए.!
    मिल जाए मन चाहा और इक़रार हो जाए.!!

    Like

  41. रात भर सोये पर नींद ना ए तुझे,
    तू भी तरसे किसी के प्यार में.!
    तब जान पाएगी तड़पने का मजा,
    दुआ करेगी किसी इंतज़ार में.!!

    काश वो दिन कभी तेरी ज़िन्दगी में आये,
    मुझे भुला तू रह सके.!
    मुहब्बत है मुझ से सारे जहाँ को खबर है,
    काश यहाँ भी हो सके.!!

    जहाँ में दिल में ना हो चाह,
    वहां बीती यादों का क्या है काम.!
    यूँ भी गैर हैं गैर ही रहने दें,
    क्या करोगे लिखा “सागर” नाम.!!

    बेइज़्ज़ती करने का कभी भी किसी का इरादा न रहा.!
    यही कमनसीबी”सागर”की तारीफ करे लगती गाली.!!

    हाल दिल की पूछने वाले,
    लोगों की चिंता कब से करने लगे.!
    बात दिल की दिल रह जाए,
    औरों माफ़िल आप क़त्ल करने लगे.!!

    दिल की बात जब जुबां पर आ जाए कह देना चाहिए.!
    फिर कभी वक़्त मिले न मिले बाद न पछताना चाहिए.!!

    हसीं चहरे पर अश्क़ अच्छे नहीं लगते,
    ज़िन्दगी में पल-पल जख्म मिलते ही रहते.!
    कभी अपनों कभी परायों से दर्द मिलते,
    फिर भी ज़िन्दगी को सभी हसीं ही कहते.!!

    काश वो दिन कभी तेरी ज़िन्दगी में आये,
    मुझे भुला तू रह सके.!
    मुहब्बत है मुझ से सारे जहाँ को खबर है,
    काश यहाँ भी हो सके.!!

    क्या खूब नज़र होता”सागर”,
    जब हसीना दिल बात मान जाती.!
    काश करीब होती तो जानती,
    बाँहों की गर्मी भी पहचान जाती.!!

    रात भर सोये पर नींद ना ए तुझे,
    तू भी तरसे किसी के प्यार में.!
    तब जान पाएगी तड़पने का मजा,
    दुआ करेगी किसी इंतज़ार में.!!

    काश वो दिन कभी तेरी ज़िन्दगी में आये,
    मुझे भुला तू रह सके.!
    मुहब्बत है मुझ से सारे जहाँ को खबर है,
    काश यहाँ भी हो सके.!!

    हो सकते हैं मेरे दिल में तुझे लेकर गिले-शिकवे कई,
    पर दिलको तेरी तौहीन कभी बर्दाश नहीं.!
    तू हसीं है तुझ को मिल जाएंगे माना कई जवान दिल,
    कभी समझेगी”सागर”सा कोई साथ नहीं.!!

    हसीं चहरे पर अश्क़ अच्छे नहीं लगते,
    ज़िन्दगी में पल-पल जख्म मिलते ही रहते.!
    कभी अपनों कभी परायों से दर्द मिलते,
    फिर भी ज़िन्दगी को सभी हसीं ही

    हाल दिल की पूछने वाले,
    लोगों की चिंता कब से करने लगे.!
    बात दिल की दिल रह जाए,
    औरों माफ़िल आप क़त्ल करने लगे.!!

    बेइज़्ज़ती करने का कभी भी किसी का इरादा न रहा.!
    यही कमनसीबी”सागर”की तारीफ करे लगती गाली.!!

    पुराने यारों से मिलना है मुक़द्दर की बात.!
    याद दिलाती गुज़रे हसीन लम्हों की बात.!!
    ज़िन्दगी में मज़ा फिर से आ जाता”सागर”.!
    “ध्वनि “मत से बन जाती हर बिगड़ी बात.!!

    जो बात ज़ुबान आ जाए,
    कह देना चाहिए”सागर”.!
    कई बेज़ुबानों को बाद,में,
    पछताते देखा है”सागर”.!!

    हर दिल आज रिश्तों की बातें करता,
    एहमियत पहचाने या न पहचाने.!
    वफ़ा बेवफा हुयी पैसा बना सब कुछ,
    “सागर”ये बात कोई माने न माने.!!

    लूटने-लुटाने की बातें नाचीज़”सागर”से न करो यारा.!
    पहले ही बहुत लूट चुकें हैं अब नहीं बचा कुछ यारा.!!

    एक शायर के ख्वाब से कम नहीं,
    ये हसीन हुस्न-ए-ज़माल.!
    देख खुदा भी परेशान है आजकल,
    अपनी कला-ए-कलाम.!!
    हम औरों की तरह बन ना पाए,
    तुम जैसा चाहते थे हम वैसा कर ना पाए.!
    तुम चंचल हिरणी सी हो यारा,
    हम दकियानूसी आवारा बदल बन ना पाए.!!

    किसी के इश्क़ में मर जाना होगा.!
    मुहब्बत कर नाम कमाना होगा.!!

    सुना इश्क़ में लोग मशहूर हुए.!
    दुनियाँ में मुक़ाम पाना होगा.!!

    कमी नहीं कोई फिर भी कमी है.!
    किसी को हमसफ़र अब बनाना होगा.!!

    मैखाने जा कई बार बहुत पी है.!
    किन्हीं आँखों से पी कर जीना होगा.!!

    Kisee ke ishq mein marjaana hoga.!
    Muhabbat kar Naam kamaana hoga.!!

    Suna ishq mein log Mashhur huye.!
    Duniyan mein Muqaam paana hoga.!!

    Kamee nahin koyi phir bhi kami hai.!
    Kisee ko Humsafar ab banana hoga.!!

    Maikhane ja kai bar bahut pee hai.!
    Kinhin Aankhon se pee kar jina hoga.!!

     खुदा करे इन होंठो की हंसी,
    सलामत रहे.!
    जिए हज़ारों-हज़ार साल यूँही,
    सलामत रहे.!!
    हर रन्ज-औ-गम से दूर रहे,
    सलमत रहे.!
    जिसकी भी है अमानत यूँही,
    सलामत रहे.!!
    सखियों में हुआ जिक्कर मेरा,
    सलामत रहे.!
    है खुश”सागर”गर यूँही ऋतू,
    सलामत रहे.!!

    फिर भी लोग करते मुहब्बत,
    मुहब्बत बिन ज़िन्दगी कहाँ.!
    ख्वाहिशों की दास्ताँ मुहब्बत,
    वरना”सागर”ये ज़ालिम कहाँ.!!

    नहीं समझ आती इन कार्टूनों की भाषा.!
    बंदा सीधा-साधा नहीं कोई अभिलाषा.!!!

    जब कभी फुरसत मिले आवाज़ ज़रूर देना,
    तेरा इंतज़ार मरते दम तक”सागर”को.!
    कुछ लफ़्ज़ों से तुझे तल्खी हुयी गुस्ताखी माना,
    कभी मान जायेगी एतबार है”सागर”को.!!

    विचार वो जो खुद के हों,
    औरों के चुरा कर लिखना भी कोई कला है.!
    दुनियां भी झुकती”सागर”,
    गैर क़दमों से कभी किसी को कुछ मिला है.!!
    मुबारक आपको जन्म दिन,
    खुदा करे ये दिन आप की ज़िन्दगी में हज़ार बार आये.!!
    कोई ख़ुशी से मेहरून न रहे,
    “सागर”की दुआ हर लम्हा आपकी ज़िन्दगी में बहार लाये.!!

    माना हर बात मुक़द्दर से तय और इंसान आबाद होता है.!
    मगर सागर” जिस का कोई नहीं है उस का खुदा होता है.!
    \
    यूँ तो ज़िन्दगी हसीं ख्वाबों का मेला है,
    पर हकीकत यहाँ पग-हर-पग मुसीबतों का रेला है.!
    जो दर कर जिया वही यहाँ अकेला है,
    ग़मों से लड़ “सागर” यहाँ का हर आदमी थकेला है.!!

    कॉलेज में सुना करते थे अक्सर”सागर”,
    लड़की हंसी तो समझों फंसी.!
    लड़कियां हंसती रही खुश होते रहे मियां,
    और वो गैर सेज जा के सजी.!!

    माना मजाक करते हैं “सागर”
    पर यारों के लबों एहसान लफ्ज़ सुन दुःख होता है.!
    आपने तो गैर समझा हर वक़्त,
    अपनों की नफरत में भी प्यार का गाड़ा रंग होता है.!!

    यूँ छेड़ना-छिड़ाना अच्छा नहीं होता,
    जैसे गर्मी में उबाल बड़ा तीखा है होता.!
    इतराते-इतराते दिल देने वाले देखें हैं,
    वैलेंटाइन डे बुखार अच्छा नहीं होता.!!

    Like

  42. Pyaar tujh se iqraar tujh se phir naraajgi kis sang rakhun.!
    Ek to der se aate ho phir baaton mein taajgi kaise rakhun.!!

    Like

  43. Reh apni chaddr paidaan mein tu,
    Ab tera naam lene wala koyi nahin.!
    Saari duniyan hai yun kareeb tere,
    Par ek chahane wala naseeb nahin.!!
    2
    Jawab likhne se pahsle yun muskutaiye na.!
    Zsmana chit-chore hai haal-e-dil jaan jaayega.!!

    Like

  44. Ye shaq shubha kisi aur ki amanat hain na mujh par jayan kar.!
    Rakh apne sawalon ko paas mujh se jyafa na kuch poocha kar.!!
    Jo khwab kabhi mukmmil na ho sake kyun uska tassvvur”Sagar”.!
    Zindagi jaisi bhi guzar rahi achchi hsi na Chaand ki aarzoo kar.!!
    2
    Raat guzare muradon bhari Subaha ko har dekha khwab mukmmil ho.!
    Reh jaaye na kuch adhura har manchahi khwahish mukmmil ho.!!
    3
    Le maan-baap ki duaein zindagi yun kisi ke naam na kar.!
    Kachi bali umariya mein bas apne maksad pe kaam kar.!!
    4
    Kyun karti hain teri aakheon sharart mujhse,
    Gumrah na kar.!
    Tere layak nahin”Sagar”yaars dekh mujhse,
    Pyaar na kar.!!

    Like

  45. Ik haan karne ke liye jalim ne kitne nakhre kiye.!
    Jaane us raat kitne sitm dhayegi zannt dikhane ke liye.!!
    2.Husn kab gunahgar huva Ishq hi khtagar hota hardum.!
    Muhabbar karta dil se magar mangta rehta hardum.!!
    3.Jab dil apna na banna chahe shifarish auron ki hoti hai.!
    Yaar rahe khush dua yahi muhabbat to aisi hi hoti hai.!!
    https://www.yourquote.in/are-sharma-badp9/quotes
    5.Kash wo kagaz kora na ho kuch ibartein iqraar ki hon.!
    Gar halka hi karna bojh uthane ko tsiyar hai “Sagar”.!!
    6. Husn ki tareef karna Ishq ki purani aadat hai.!
    Gar husn ho rujh sa Ishq bechara kya kare

    Like

  46. गर तुझ में कुछ भी हकीकत है,
    और ज़ज़्बात हैं दिल के मेरी खातिर /
    आ मुझ को आवाज़ दे तो देख,

    Like

  47. इक तेरे पैर दी चान्झर,
    मित्राण दे बेड़े वजदी ए…
    जिया धक्-धक् करदा,
    दिल उत्ते सुट वजदी ए…

    Like

  48. उनका चेहरा है झील में खिलता कमल,
    किसी शायर हो जैसे कोई ताज़ा ग़ज़ल
    sagar390@

    वादों की किताब रखूँगा,
    हर मोड़ वादा कर दूंगा
    शायद एहसास तुझे हो,
    दिल-ए-दर्द क्या चीज़ है

    हासिल-ए-ईमां= विश्वास का नतीजा

    9263446398021

    वो जवाब किस काम के जो समझ से बाहर हों
    मतलब पूछें दाएं-बाएं जा हालत पागलों जैसी हो

    काश दिल की भीड़ में इक पल यारों का भी होता
    तन्हा दिल का”सागर”फिर बोझ भी कुछ कम होता

    काश समझ इस दिलको भी आ जाये नैनों की भाषा
    शायद फिर समझ पाये दिल मुहब्बत की परिभाषा

    ये भी खूब अदा रही यारा क़त्ल भी किया और क़ातिल भी न कहलाया
    अपनी निगाह-ए-तीर से क़त्ल किया दिल का इलज़ाम हमीं सर लगाया

    सब्र बस सब्र ही तो मिला ज़िन्दगी में और हासिल हुआ क्या
    दिल दिया था खुदा ने”सागर” मगर बसने न दिया किसी को

    न कर यूँ दिल पर वार सनम,
    कहीं प्यार हो न जाए
    हम तो हैं पागल-बेक़रार यारा,
    तू बेक़रार हो न जाए

    काश उम्मीदों को यूँ अलविदा कहना आसां होता
    “सागर”फिर ज़िन्दगी में कोई शक़्स न परेशां होता

    बहुत सही हैं वादों की सितम,
    अब वादों पर यक़ीन न रहा
    ज़िन्दगी अब बची ही कितनी,
    कुछ दिनों का दाना-पानी रहा

    बहुत देखें है इश्क़ का दम भरने वाले,
    वक़्त पर मुहब्बत जता धोखा देने वाले
    अब न रहा ज़रा भी एतबार जमने पर,
    मिले”सागर”यहाँ गैर सेज़ सजाने वाले

    छोड़िये ये इश्क़-इश्क़ की बातें,
    दुनियां इससे आगे भी बहुत है
    जाने कितने लम्हों को मोहलत,
    ज़माने में”सागर”और भी गम हैं

    Like

  49. अना = Ego
    आराईश = Makeup /Dressing
    असहाब = लवर/Synonym of Sahib
    अंदाज़-ए-तकल्लुम = Style of speaking
    लब-औ-रुखसार = Lip and Chicks
    आब-ए-चश्म = आंसूं
    ऊंस ➡️love
    गरल ➡️ poison
    पैमाने ➡️cup
    क़ासिद ➡️ messenger
    कतरा ➡️a drop
    हयात ➡️life, existence
    ज़हीन = Intelligent

    कर गए उनफ़ोल्लोव दौड़ते-दौड़ते,
    जो कहते हैं अब थोड़ा ठहराव दे दो.!
    क्या इसी दिन खातिर रुकें “सागर”,
    कहें ज़िन्दगी से और रुसवाई दे दो.!!

    क्यों करती हो ऐसा आज तक न जान सका.!
    हर बीवी जैसा तुम भी क्यों बर्ताव करती हो.!!

    ये दुनियां है चंद लम्हों का मेला “सागर”.!
    यहाँ हर शख्स फिर भी परेशां निकला है.!!

    और फिर ऐसे मिले तुमको”सागर”
    खुदा-ए-दिल मान इबादत कर गए
    उन हौसलों का क्या जिनमें कोई हमसफ़र न शामिल.!
    होंसलों पर इतना गरूर तो किसी से दिल लगा दिखा.!!

    इश्क़ को यही सजा मिली हरदम हुस्न से.!
    मुहब्बत की भी मगर किस्सा बन रह गया.!!

    सच पूछे तो “सागर”अपनी भी यही है कसक.!
    किसी दिन वो बुलाये घर पिला दे चाय कड़क.!!

    गर तेरी ज़िद्द भी होती तो क्या हो जाता./
    होता वही”सागर”जो मंजूर-ए-खुदा होता.//

    जैसी भी हो जिस हाल भी हो.!
    सुनो मुझे तुम बेहद पसंद हो.!!

    वो ठंडी हवाएं और बनारस की सुबह
    वो अस्सी की चाय साथ मेरा अभिमान

    तुझ को सोचूं तो रातों को नींद नहीं आती.!
    चैन जाता”सागर”फिर भी नज़र नहीं आती.!!

    ज़िन्दगी की शाम हो तेरी गली में यही हसरत रही।!
    ये और बात “सागर” वो गैर की बाँहों में खेल गई।!!

    क्या ज़रूरत बोतल को पीने की “सागर”।!
    जिसे पी कर ज़माना खुद बेहाल हो जाए।!!

    चाहा था उसे दिल की गहराई से “सागर”
    कुछ ऐसे भी होते हैं जो एतबार न करते

    जहाँ खुन्नस न हो वहां कैसे मुहब्बत परवान चढ़े”सागर”
    ये वो शम्मां तब तक न जले परवाना दीवाना न हो जाए

    कुछ ऐसे भी दीवाने हुए “सागर,
    जो दूजे की ज़ीनत को ज़ीनत न समझें.!
    जब लगे आग खुद के घर-आँगन,
    दौड़ें बुझाने गली-चौराहे चिल्ला-चिल्ला.!!

    मुहब्बत की तपिश को वही समझे”सागर”,
    जो झेला और खूब जिया
    वो क्या समझेंगे उल्फत की रवानियाँ जिन्हें,
    पाक वफ़ा का स्वाद न मिला

    जिस्म का पाना या रूह में उतर जाना ही मुहब्बत नहीं यारा
    उल्फत तो वो”सागर” गहराई जन्म-जन्म न नाप पाए है कोई

    अदालत इश्क़ की हो या किसी और सुनवाई की.!
    यहाँ वकील मिले कहाँ बिन फीस बिन मतलब के.!!

    इंतकाल की बातें अभी से न कर,
    अभी तो ये शुरुवात है.!
    देखा ही क्या है तूने जान-ए-जहाँ,
    “सागर”की फरियाद है.!!

    शर्म आँखों में हो अगर तो हिज़ाब की क्या ज़रूरत यहाँ हुआ करे.!
    ये वो बस्ती”सागर” जहाँ हैवानियत ने शराफत का लबादा ओढ़ा है.!!

    अब अल्लाह ही बचाये इन हसीनों की हरकतों से”सागर”.!
    घायल भी करती और चुपके से आ दिलासा दे खो जाती.!!

    Like

  50. अच्छा जी भुला कर तो देखिये
    फिर खुद को कहाँ पाओगे

    अजी आउट ऑफ़ फॉर्म कब रहे”सागर”ज़रा याद तो करा दीजियेगा
    ज़िन्दगी जब तल्क़ है यारा यूँ ही ये फॉर्म बरक़रार रहे यही आरज़ू है

    गर दुआएं भाइयों की मिले रस्ते जीवन के कोई भी हों मजिल यक़ीनन मिलेगी
    वो ज़िन्दगी किस काम की”सागर”जहाँ अपनों का सहारा न मिले प्यार न मिले

    लोगों का काम कहना-करना क्यों उनकी परवाह हुआ करे
    अपनी धुन में चल “सागर” ज़िन्दगी तो यहाँ यूँ ही कटा करे

    यूँ ज़िन्दगी से हार मानना कहाँ का इन्साफ है यारा
    फूलों तक पौंछना है तो काँटों से उलझना ही होगा

    अपने सारे रंज-औ-गम देदो यारा,
    कमसिन उम्र है सह न पाओगे.!
    यहाँ ज़िन्दगी गुज़री काँटों भरी राह,
    “सागर”का क्या सब सह जाएंगे.!!

    वो क्या मुहब्बत करेंगे “सागर “जिन्हें जिस्म की चाह.!
    रूहों के मिलन को जाने आज क्यों बिस्तर पर समेटा.!!

    दो-चार लम्हों की ज़िन्दगी कब इंकार किया,
    प्यार सब कुछ”सागर ये भी मान लिया
    मगर इक सहारे क्या सब दाव लगाना अच्छा,
    कई और भी है जिनने तुझे प्यार किया

    बिन तेरे कैसी ईद और कुछ न ज़िन्दगी
    तू जो हो ज़िन्दगी हर दिन ईद-सी लगती

    चाँद रात को सज-धज घर की छत पर आ जाना
    तेरा दीदार कर ही मैं ईद मन लूंगा कसम से यारा

    दीदी को प्रणाम करो”सागर”जीजा को नमस्कार.!
    रविवार है भाई खिला-पिला के करो खूब सत्कार.!!
    क्या खूब है उनका मुस्कुराना”सागर”,
    फल्क़ पर मौसम खुशनुमा-सा हो जाए
    गर्मी के मौसम में भी एहसास सुहाना,
    वदली छाए बारिश-सा मौसम हो जाए

    आपके लफ़्ज़ों से रोशन हमारी सांसों की खुशबू.!
    लोग समझते जी रहे जितनी खुदा ने मंजूर की है.!!

    नींबू समझ,
    न निचोड़ना मुझे,
    और निचोड़ कर,
    न फेंकना मुझे,
    जी न पाऊंगा,
    तन्हा न छोड़ना मुझे,
    बड़े काम की चीज़,
    आजमा तो देख,
    जीवन पथ पर,
    साथ निभा तो देख,
    उम्र भर की बहार,
    पतझड़ न समझना मुझे,

    चाहत फूलों की हो अगर काँटों की राह से गुज़रना ही होता.!
    असल ख़ुशी का एहसास तभी”सागर”जो दुःख साहा होता.!!

    ऐसा सितम न करना बिन रौशनी परवाने मर जाएंगे.!
    आस लिए ही जीते दीवानें ताह उम्र वीरान हो जाएंगे.!!
    इससे पहले के जाने-ए-जहाँ ख्याल बदल जाए
    फ़ोन उठाओ घंटी बजाओ हैं”सागर”इंतज़ार में

    यूँ दिल पर रख हाथ अपनी बात कह जाओगी
    जान-ए-जहाँ”सागर”को जीते-जी मार जाओगी

    इंसानी फितरत जो आज है कल उसे बदलना पढता.!
    “सागर”ज़िन्दगी को हर-हाल कुछ यूँ ही जीना पढता .!!

    वो भी एक दौर था ये भी एक दौर है,
    कहती थी कभी “सागर” जानू-जानू.!
    सपने सभी ख़ाक हुए हो गयी पराई
    अब बच्चों से कहलवाती मामू-मामू.!!

    वो ख्वाब ही क्या जो मुकम्मिल हो जाए सागर”
    जो मुकम्मिल हुआ किसे कब याद रहा”सागर”

    इत्र की खुशबू या,
    हो फूलों की खुशबू,
    सब बेकार गर,
    तू साथ न हो।।।

    तुझ बिन सूना-सूना,
    न एहसास न उमग,
    जीने का जी कराती,
    तू साथ जो हो।।।

    सपने देखे कई मगर,
    तस्वीर तेरी शामिल,
    ज़िन्दगी है मुक़म्मिल,
    तू हाथ जो हो।।।

    कोशिशें तो बहुत की मगर अफ़सोस,
    तुम कुछ लिख ही ना पाए
    जिसे पढ़ अपना समझ सकें “सागर”,
    ऐसा कुछ कह ही ना पाए

    जो आँखों हों जग में सुन्दर”सागर”,
    वो देखें बस सब अच्छा अच्छा।
    मगर जीवन में कुछ ऐसे भी हुए हैं,
    जो मानें न कुछ अच्छा-अच्छा

    यूँ प्रोफाइल पिक बदल-बदल,
    सोशल मीडिया पर मैसेज किया करोगे
    आशिक़ों को रिज़ा ही जाओगे,
    किसी भँवरे को ख्वाबों में देखा करोगे

    हुसन वालों को खुदा देता है छपर फाड़ के,
    इश्क़ बेचारे की तक़दीर आहें भरने सिवा कुछ हाथ न आये
    वो इतराये अपनी अदाएं दिखा-दिखा”सागर”,
    नाचीज़ शायरों को ग़ज़लें लिखें सिवा और कोई काम न रहा

    ए काश उनकी फोटो गैलरी में इक पिक अपनी भी हो.!
    देखें सुबह-शाम उन के लबों कभी नाम “सागर” भी हो.!!

    गर”सागर”की शेर-ओ-शायरी से यूँ दिल लगाओगी,
    खुदा कसम दिल अपना यूँ हार जाओगी
    दीवारों से सर टकरा घूमोगी इधर-उधर देखना फिर,
    इलज़ाम फिर भी न अपने सर लगाओगी

    न कर मुस्कुराने की ज़िद्द मुझ संग
    बहुत गम हैं तू झेल न पाएगी
    मैंने हर कदम दोस्ती की काँटों संग,
    तू चार कदम चल न पाएगी

    न छेड़”सागर”की मरती उमंगों को
    क्यों याद कराती है बीती बातों को

    गर बेगम होती यक़ीनन मियां सुनना अच्छा लगता
    छोड़ो क्यों उझड़ा खण्डार आबाद करना चाहते हो

    जो न समझें हुस्न और मुहब्बत को ऐसे दीवाने नहीं”सागर”
    जिसे चाहा था एक बार क़यामत आने बाद तक इंतज़ार है

    न कर वो वादा जो मुक़म्मिल ही न कर पाए./
    यक़ीन तुझपे बहुत मगर खौफ ज़माने का है.//

    बस अपनी ही सुनाती गईं,
    जगह न छोड़ी कोई
    बात यहाँ बहुत कहने को,
    बता कहाँ कहूं कुछ

    बिन वादा किये कैसे समझोगे”सागर”,
    यक़ीन क़ाबिल हैं भी या नहीं
    प्यार-वफ़ा का दम भरते कई मगर,
    वक़्त आने पर दगा दे जाते

    ये सच है वफ़ा-ए-उल्फत में क़ाबलियत नहीं देखी जाती
    मगर कुछ ऐसे भी हुए”सागर”पग-पग आजमाइश करते

    खूबसूरत धोखा

    एक खूबसूरत धोखे के सिवा कुछ भी नहीं.!
    न तू सच्ची न तेरा वादा और न ही तेरा प्यार.!!

    फासले तो फासले हैं बेशक दो कदम ही के क्यों न हों.!
    गर दिल में हो पाक वफ़ा मुहब्बत परवान चढ़ ही जाती.!!

    कौन कहता है तुझसे दूर वो और तेरा है नसीब./
    गौर से देख हाथों में शायद नहीं उसकी लकीर.//

    खामोश रहने की जो हिदायत दे वो शख्स क्या मुहब्बत करेगा./
    उल्फत तो नाम ही जग हंसाई का डरे जो क्या मुहब्बत करेगा.//

    हुस्न की तारीफ करना इश्क़ की पुरानी आदत है
    न पढ़ फेर में यारा इसके आगे तो बस बगावत है

    यूँ जिस्म की नुमाइश न कर भँवरे नहीं जो खिंचे आएंगे./
    मन की खूबसूरती आगे “सागर” कुछ भी अच्छा न लागे.//

    मय भरे गिलास में तुझे ढूंढ लेते हैं
    कुछ इसी तरह लम्हां-लम्हां जीते हैं

    क्यों झूठ बोलती हो जान-ए-जहां
    “सागर”दिल ले कहती दूजा दिल नहीं

    किसने रोका है तुझे जा भूल जा
    फिर भी तुझे चाहूंगा जा रोक ले

    ये टुकड़े नहीं आईने के “सागर” दिल है
    जिनके रोम-रोम से तेरा नाम निकल रहा

    नज़र मिली नज़र झुकी भी इजहार-ए-उल्फत बयाँ कर गईं.!
    “सागर”पहली नज़र में ही उन संग दिल ले दे प्यार कर हई.!!

    Like

Comments / आपके विचार ही हमारे लिखने का पैमाना हैं.....ज़रूर दीजिये...

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: