Author Archives: Ocean’s Waves

बच कर रहना हम गरीबों से.!.!!


अब इश्क़ किया है तो बच कर रहना हम गरीबों से.!
तेरी आशिकी से पहले”सागर“सुल्तान हुआ करते थे.!!

रहे चाहे अब जिस गली मौहल्ले में घर बना अपना.!
कभी आँखों के सपनों में”सागर“ख़ास हुआ करते थे.!!

Advertisements

चैन.!!


तेरी जुल्फों का सरमाया,
ज़रा भी चैन से जीने नहीं देता.!
इधर देखूं या उधर देखूं,
दिल में और उतरने नहीं देता.!!

क्यूँ.!!’


गर ख़ौफ़ होता धोखा देने वालों के दिल में,
तो धोखा देते ही क्यूँ.!
रब्ब से डरते और वफ़ा करते जान देने वाली,
बेवफ़ाई करते ही क्यूँ.!!

Happy Sunday…


अपने रुख से पर्दा यूँ हौले-हौले सरकाओगे,
खुदा कसम देखने वालों को बेमौत मार जाओगे.!

महताब-कहकशां-चाँद-सितारे चूमेंगे कदम
ज़मीं पर उस रब्ब बाद एक तुम्हीं पूजे जाओगे.!!

2

तम्मन्ना…


बहुत रुलाया है तूने मुझ को,
अब जीने को ज़रा भी जी नहीं चाहता.!
सागर“की चाहत फ़क़त इतनी,
अगले जन्म भी हो तुझी से कोई नाता.!!

all-the-best.jpg

So Proud Of Being Yours…GOOD BYE.!!


जब कोई आकर किसी से कहे…

तेरी बातें मेरी खातिर नहीं,
तेरी ग़ज़लों में मैं शामिल नहीं.!
तेरे हर शेर मेरे बिन अधूरे,
तेरे साज़ में मेरी आवाज़ नहीं.!!

समझों ज़िन्दगी का लुत्फ़ ही ना रहा…
अर्ज़ किया है:-

5

इतनी ताकत नहीं की लड़ सकूँ तुझ संग,
कभी मरने की खबर मिल जाए तो याद कर लेना.!
तमाम ख्वाहिशों से बढ़ चाहा था”सागर“ने,
कभी यक़ीन हो जाए तो मज़ार आ अश्क़ बहा लेना.!!

After Valentine’s Day…


ज़िन्दगी गुज़र सकती तेरे ख्यालों में तो अच्छा था,
बात की दिल ज़ुबाँ निकल जाती तो अच्छा था.!

मगर अफ़सोस हुआ वही जो मन्जूर -ए -खुदा था,
तुझे मिला वही जो “सागर” से बहुत अच्छा था.!!

33.jpg

बातें.!!


      दिल की बातें,
वफ़ा में मर-मिटने वालों के मुंह अच्छी लगती”सागर“.!
      कई हैं यहाँ जो,
बेवफा  होते  मगर  तक़दीर की खता बता राह हो लेते.!!

24.jpg

गर्दिश-ए-हवा…


बुझता हुआ चिराग हूँ,
जहाँ की गर्दिश-ए-हवा से बचा ले.!
इससे पहले गैर बनूँ,
बाहें फैला अपने दामन में समा ले.!!

8.jpg

देखना एक दिन मुहब्बत हो जाएगी.!!


88.jpg

देखना एक दिन तुझे भी हमसे मुहब्बत हो जाएगी.!
रात-रात भर जागेगी और ख़यालो में खो जाएगी.!!…

यूँ ही शाम ढलेगी और यूँ ही दिन भी निकलेगा.!
आईना में देख सूरत अपनी खुद से शरमाएगी.!!…

कई हैं ज़माना में हसीन हम तो कुछ भी नहीं हैं.!
बनाना चाहेगी हमसफर कोई सूरत मेरी नज़र आएगी.!!…

गुज़रेगी मेरी गली से देखेगी जब मेरे उजड़े घर को.!
याद कर-कर हमें तन्हाई में खूब अश्क़ बहाएगी.!!…

वक़्त की ठोकरें अच्छे-अच्छों को जीना सीखा देती.!
ना रहेंगे जब हम तो शायेद खुदको संभाल पाएगी.!!…

lover-day.gif

Dekhna ek din tujhe bhi hamse muhabbat ho jaayegi.!
Raat-raat bhar jaagegi aur Khayalo mein kho jaayegi.!!
Yun hi shaam dhalegi aur yun hi din bhi nikalega.!
Aaina mein dekh surat apni khud se sharmaayegi.!!
Kai hain zamana mein hasin hum to khuch bhi nahin.!
Banana chahegi humsafar koyi surat meri nazar aayegi.!!
Guzaregi meri gali se dekhegi jab mere ujhade ghar ko.!
Yaad kar-kar humein tanhaai mein ashq bahaayegi.!!
Waqt ki thokarein achche-achchon ko jina sikha deti.!
Na raheinge jab hum to shaayed khudko sambhal paayegi.!!

Happy Valentine’s Day.


तेरी हर ज़िद्द क़बूल है,
तेरी हर बात पर दिल हारा है.!

आज जवाब न दिया तो,
उम्र भर का फिर किनारा है.!!

8.jpg

Valentine’s Day Special…


होते-होते ही प्यार होता,
वैलेंटाइन डे तो बस बुखार होता.!
जो चढ़ा तो ठीक वरना,
अगले बरस का इंतज़ार होता है.!!

67.jpg

इक बार.!!


इक बार चले आओ,
ये दिल बड़ा प्यासा है.!
सागर“हूँ माना पर,
महरूम किनारा है.!!

5.jpg

दिल की मलिका…


इक बार नहीं सौ बार नहीं,
हर बार यही  कहता हूँ.!
तू ही इक दिल की मलिका,
तुझे प्यार बड़ा करता हूँ.!!

22.gif

Happy Valentine Day…


Happy Valentine Day.!!

55.jpg

लफ्ज नहीं मुहब्बत का पैगाम भेज रहा हूँ,
गर हो क़बूल तो जवाब ज़रूर देना.!

पहली बार सच दिल ने प्यार किया किसीसे,
गर हो यक़ीन इक़रार ज़रूर करना.!!

Happy Maha-Shivaratri…


 

Shivratri.jpg

शिव की आराधना कर बन्दे,
शिव भक्ति में है बड़ा अभिमान.!
मन शान्ति धन समृदि देती,
भोले से है पूरी हर मनोकामना.!!

कुछ पूजें और कुछ न पूजें,
शिव मनमा न कोई भेद-भावना.!
अपने भक्तों से कभी न रूठे,
यही भोले भंडारी की सदभावना.!!

बम-बम भोले जय शिव-शंकर,
कण-कण बस्ते ऐसी है अवधारणा.!!
सुखमय हो सब का जीवन यही,
सागर“करते शिव से आज प्राथना.!!

Kiss Day…Dedicated to Some One Special…


अपने तन की खुशबू से यूँ ना महका समां,
गर बहक गया तो दिल नादानी कर गुज़रेगा.!

लबों से लबों का मिलन हो जाएगा बिन चाहे,
तेरा अंग-अंग चूम दिल हद से गुज़र जाएगा.!!

22.jpg

Happy Kiss Day…13 Feb.


भंवरा हूँ तुझ कली को पाना चाहता हूँ,
अपने दिल में बसा तुझे पूजना चाहता हूँ.!

चाहे कर कितना भी इंकार “सागर” से,
करीब आ तेरे होंठों को चूमना चाहता हूँ.!!

222.jpg

कोई ग़ज़ल मेरे नाम भी लिख.!!


तरसा हूँ बहुत कुछ अपनी खातिर सुनने को,
कभी कोई ग़ज़ल मेरे नाम भी लिख.!
क्या सोचता है तेरा दिल मेरे बारे में ज़रा बता,
कहीं ज़िक़्क़र मेरे हाल का भी कर.!!

बहुत कुछ कहती गैरों की तारीफ में हर दिन,
मगर जुबां पर मेरा नाम तक न लेती.!
इतना भी कमतर नहीं हूँ मान जान-ए-जिग्गर,
कभी कोई लफ्ज़ मेरे नाम भी लिख.!!

उस दिल या दिल-ए-ज़ज़्बात का क्या करूँ मैं,
जहाँ हमदर्दी का एक कटरा भी नहीं.!
मेरी शायरी भरी तेरे नूर तेरी नज़ाकत अदा से,
कभी कोई शेर मेरे नाम भी लिख.!!

222.jpg

On the Bed…


(1)

माना बहुत शिक़वे और शिकायतें तुझे मुझ से होंगी,
मगर दम निकलने को है मेरा अब तो ना रूठ मुझसे.!
कभी-कभी ज़िन्दगी में इतना गुस्सा अच्छा नहीं होता,
वक़्त गुज़र जाए फिर नापते रहे हम क़दमों के निशाँ.!!

(2)

कब इंकार इस दिल को खता हमसे न हुई,
पर इतनी मगरूरत भी अच्छी नहीं सैम.!
समझ वक़्त का तकाज़ा ज़रा  हूँ  बीमार मैं,
जाने ज़िन्दगी कब मेरा साथ छोड़ जाए.!!

(3)

रहना हर दम अपनी ही आदतों में मगन,
फिर चाहे हम रहे ना रहे.!
बाद पछताने से  क्या फायदा होता सैम,
जब चिडया चुग जाए खेत.!!

Happy Hug Day…


दूर बहुत दूर बैठी हो हमसे यारा,
कभी तो पहल कर लिया करो.!

दूर  दूर से  ही तरसाती  हो बहुत,
करीब आ गले लग लिया करो.!!

22.jpg

 

जाने कब टूट जाएंगी सांसों की डोर.!!


हज़ार कोशिशें बेकार हुई तुझे भूलने की,
ज़िन्दगी आखिर दौर में आ चुकी.!
जाने कब टूट जाएंगी सांसों की डोर यारा,
अब भी हर बात नादानी में ले रही.!!

ग़ज़ल.!.!!


बड़ी बतमीज़ है वो जाने कहाँ मर जाती है.!
दो-एक बातें कर जाने कहाँ छिप जाती है.!!

कोई तड़पता है तड़पे बेगैरत की बला से.!
रातों को जगा खुद आराम से सो जाती है.!!

उसके कूचे में आ-आ कर मगरूर किया.!
सरे बाजार आबरू यारों वो लूट जाती है.!!

क्यों उस की वफ़ा के गीत जाता “सागर“.!
वो हैकि ग़ज़ल गैर ख्यालों की हुवे जाती है.!!

55

भंवर हूँ मैं.!!


मेरी बेबाकी ही है मेरे जीवन की पहचान,
लोग समझते बड़ा चालाक हूँ मैं.!
बहुत चाहा मगर घुमा पाया ना जहान को,
फिर भी लोग कहते भंवर हूँ मैं.!!

2.jpg

पत्थर.!!


तुझसे कोई शिक़वा-शिकायत नहीं है,
अफ़सोस क्यों बेवफा निकला.!
चाहा तुझे मंदिर की मूरत से बढ़ कर,
मगर महज़ क्यों पत्थर निकला.!!

5.jpg

%d bloggers like this: