Muhabbat gar pak ho majboori kyunkr..
Wafa Mazhab mein kb kaid rahi Yaara..!!

क्या खबर तेरी नज़रों की खता रही जो पढ़ न पाई सही से..
जो इधर थी वो जला गयी हो उसके घर को..!!

मुहब्बत गर अपना समझ करते..
खुदा कसम यूँ मजबूर न होते..!!

गर्दिश-ए-हवा इन दिनों कुछ ऐसी चली है..
ज़रा ज़रा काँपता शहर की गलियों में चलते..!!

कहते थे न भूलेंगे न छोड़ेंगे कभी भी साथ..
भुला बैठे वही आज जा गैरों की बाँहों में..!!

कोई गुंजाइश फ़िलहाल तो नज़र नहीं आती..
इश्क़ करते मगर इक़रार करने से डरते हो…!

Har kisi se Prem ki
Bhasha boliye
Khud bakhud Samne
wale ko Pyaar ho jayega

Koyi aisi harkat na krna
dil ka tootna lazim !
Ilzaam lgate rhoge un par
phir sambhlna mushqil !!
मुझ गरीब की बस्ती में आग लगा बता तुझे क्या मिला..
मांग ने सिंदूर गैर का मेरी वफाओं का अच्छा सिला दिया ..!!
आज की रात आना सनम
शिद्दत से इंतज़ार करेंगे..
कल चले जाना जाने कहाँ
फिर तुम कहाँ हम कहाँ..!!

दुआ रब्ब से यही अब मैं रहूं न रहूं वो रहना चाहिए..
जिसे दिल की गहराई में बसा पूजा चाहा है मैंने..!!
चिराग-ए-उल्फत जलाये बैठे हैं..
कब आओगे आँखें थक चुकी हैं..!!

जो इश्क़ को समझते हैं खिलौना वो क्या किसी का प्यार समझेंगे..
जान निकल जाये किसी की बस मज़ाक समझेंगे..!!

बात बात पर I Love Miss u कहने वाली
दिलरुबा लगती थी..
बाद में पता चला वो एक फरेब है
सब की दिलरुबा थी..!!
सबसे है मुहब्बत यहाँ किसी से बैर नहीं मुझ को…
जाना मुझे भी इक दिन सदा रुकना नहीं मुझ को…!!
Boy: I miss u😘
Girl: Why 😀
Boy: I need u🥰
Girl: Why😀
Boy: I love u💞
Girl: But I don’t😆
Boy: Now I want to die☺️
Girl: Go to hell😀😀(move with simle)

Why she’s smiling?

घर के चिराग ने अग्नि दिखाई
सूखी घास के घर को..
लोगों का क्या करे आग बुझा
देंगे दिल पर लगी कौन बुझाये..!!
पलट कर देखने अब किसी को यहाँ अब
चाहत नहीं रही..
बेवफा नहीं ज़माना मगर यक़ीन करने की
हिम्मत नहीं रही..!!
अपने होंठो की लाली से दिल चुरा रही हो..
मासूमियत से पूछती क्यूँ परेशान हो रहे हो..!!

ये मेरी शेर-ओ-शायरी ग़ज़लें महकती हैं तेरी सांसों से
तेरे ख्वाब है इनमें शामिल..
अब तू नहीं जीवन में तो ये दुनियां मेरे किस काम की..!!

न कर इतने सितम की मिल न सकें फिर..
खफा कसम तेरे बिन न जीने की खाई है..!!
यही दुनियां का चलन यहाँ अच्छों को बुरा साबित करते..
हर वक़्त ढूँढ़ते रहते औरों में अपनी बुराई दूर ना करते..!!
बहुत किया तेरा इंतज़ार यारा अब नहीं करना..
अच्छा किया मज़ाक मुझ संग अब नहीं रहना..!!

जब चारो और अँधियारा हो,
हर उम्मीद नाउम्मीद बन जाए..
बस दुआएं काम करती हैं,
जो सच्चे दोल से निकलती हैं..!!

अपनी दुआओं में शामिल रखना..
ज़िन्दगी रही तो फिर किसी मोड़ मुलाक़ात ज़रूर होगी..!!

क्यों बनाया इंसान
खून का रंग दिया एक सा..
फिर नफरत क्यूँ
बस खुदा से यही पूचंस है..!!

तेरी निगाहों में गुनहगार सही
चल कोई न..
खुश रहना
अब हम चलते हैं..!!

हर लम्हें का एहतराम करो..
ज़िन्दगी को यूँ सलाम करो..!!

मेरे घर की खिड़कियॉँ बँद
उन हवाओं के लिए..
जो तेरी यादों को ले उड़ें
तन्हाई देने के लिए..!!

या मेरे अल्लाह कैसी अदा
है इन हसीनों की..
रोज़ रोज़ गली से गुज़रती
नागा एक न करती..
मगर रुख से पर्दा हटा
चाँद का दीदार न कराती..!!
इससे पहले चले जाएँ आ कर मिलो..
फिर न कहना वक़्त रहते बताया न था..!!

मांगी हुई खुशियों से जना ज़िन्दगी बसर नहीं होती..
जो कोई अपनी ख़ुशी से दे वही तह उम्र साथ चलती..!!

किसी गैर के नहीं हुए
दिल धड़कता अब भी तेरे नाम से..
यक़ीन नहीं तो करीब आ
देख अपना चेहरा मेरी आंख में..!!

जो हाल उधर वो इधर भी,
कल रात ख्वाबों में आ बड़ा तडपाई..
तकिया कस कर पकड़ा,
फिर आँख खुली तू कहीं नज़र न आई..!!

संभाल के रख अपने सीने के दिल को,
अभी मैं बेवफा नहीं हुआ..
बेमतलब इलज़ाम न लगा जान-ए-जहाँ,
अभी तो प्यार शुरू ही हुआ..!!

तुम दूर हो मगर दिल के करीब हो बहुत..
कोई लम्हा ऐसा भी होगा खुदको करीब पाओगे..!!
तेरे मेरे दरमियाँ जो ये फासले हैं,
लगता जैसे सदियों के फैसले हैं..
न सुलझ सकेंगे ये ऐसे मसले हैं,
दिल के सुलगते ये कैसे हौसले हैं..!!

गर इरादे नेक हों होंसले बुलंद..
क़दमों तले मजिल आ ही जाती..!!

एक तेरी न से ज़िन्दगी में हैं दुश्वारियां..
वक़्त रहते संभल उम्र भर पछताएगी..!!

देख आईने में चेहरा इलज़ाम
और पर लगा गए..
शर्म-ओ-हया इतनी अपनी
परेशानियां न बता सके..!!

हर चहरे के पूछे,
उम्मीद है जिज्ञासा है,
ज़िन्दगी की शाम बेशक हो रही,
पर एक खूबसूरत सुबह जरूर होगी..!!

 

 

 

 

 

 

About Dilkash Shayari

All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on May 1, 2020, in Shayari Khumar -e- Ishq. Bookmark the permalink. Leave a comment.

Comments / आपके विचार ही हमारे लिखने का पैमाना हैं.....ज़रूर दीजिये...

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: