“लम्हें”


1) यक़ीन नहीं फिर भी यक़ीन करना होगा”सागर“./
बेवफा बेशक है मगर जान-ए-जिग्गर भी तो है.//

2) ये तेरी गलतफहमी है “सागर” अजनबी को दिल दे बैठी./
ज़रा दिल में झांक कर तो देखती सांसों से प्यार कर बैठी.//

3) गर छुपाना सीख जाते”सागर”इजहार-ए-उल्फत कैसे करते./
दिल में जलती शम्माँ तेज हवाओं में फिर कैसे रोशन रखते.//

4) तुझे हक़ है “सागर” वफाओं पर शक करने का./
गर दिल में हो मुहब्बत रश्क़ करना भी लाज़िम //

5) इसी का नाम ज़िन्दगी है यारो.!
जैसे भी हो बस गुज़र ही जाती.!!

6) बड़े जिग्गर वाले होते उल्फत के मतवाले.!
जान देते इश्क़ खातिर मगर उफ़ न करते.!!

7) हर ख्वाहिश गर मुकम्मिल होती “सागर“.!
फिर हसरतों का जिक्क्र ज़माने में न होता.!!

8) इसी का नाम मुहब्बत है यारा./
तभी हर शय में रब्ब दीखता है.// 

9) न पूछ मुझसे मेरे होंसलों की परवाज़./
गर सामने हो तेरे होंठ चूम लूँ मैं.// 

About Dilkash Shayari

All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on June 5, 2019, in लम्हें. Bookmark the permalink. Leave a comment.

Comments / आपके विचार ही हमारे लिखने का पैमाना हैं.....ज़रूर दीजिये...

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: