लोग क्यों दिल से मुर्दा हैं.//


तेरे इश्क़ में जान देने की हसरत लिए ज़िंदा हैं
लोग फिर भी कहते शर्मिंदा हैं./

क्या किसीको चाहना कोई गुन्हा होता है सनम
लोग फिर क्यों दिल से मुर्दा हैं.//

About Dilkash Shayari

All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on May 29, 2019, in Shayari Khumar -e- Ishq. Bookmark the permalink. 2 Comments.

Comments / आपके विचार ही हमारे लिखने का पैमाना हैं.....ज़रूर दीजिये...

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: