रात भर जागे हैं.//


रात भर जागे हैं,
ठाठ से जनाब सोये पड़े हैं /
जिस हुस्न पे नाज़,
उसे सरे बाजार किये लेटे हैं //

आवारा हो चली हैं,
वो काली घटाओं सी जुल्फें /
बरसेंगी किस आँगन,
खामोश मगर सवाल समेटे हैं //

सुर्ख लाल लबों पर,
इक मेरा ही नाम रहता उसके /
दुनियां सामने बेशक,
हर पल ना नुकर कर लेते हैं //

जब जागेगी लड़ेगी,
कुछ फितरत है उसकी ऐसी /
वक़्त कैसे कटता,
जाने यारो जब सामने होते हैं //

6

About Dilkash Shayari

All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on February 16, 2019, in Nagama-e-Dil Shayari. Bookmark the permalink. Leave a comment.

Comments / आपके विचार ही हमारे लिखने का पैमाना हैं.....ज़रूर दीजिये...

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: