❤ए दोस्त लौट कर आजा❤


ए दोस्त लौट कर आजा….❤❤ Instantly (Online) लिखी गई नज़्म है …
कवि/शायर मन कभी-कभी बड़ा उदास होता है…
दुनियां उसे कभी नहीं समझ पाती…

ए दोस्त तू लौट कर आजा,
ज़िन्दगी तेरे बिन अधूरी है.!
मिलती नहीं रोशनी किरण,
बिन तेरे ज़िन्दगी अँधेरी है.!!
ए दोस्त लौट कर आजा…

मैंने माँगा ना रब्ब से बहुत,
तेरी मुहब्बत के सिवा कुछ.!
इबादत को ज़िन्दगी समझा,
तेरे बिन देखा ना और कुछ.!!
ए दोस्त लौट कर आजा…

ये शहर गलियां किस काम,
याद कराती बस तेरा नाम.!
ही फूल वही शाखें मगर,
सासें लेती हैं बस तेरा नाम.!!
ए दोस्त लौट कर आजा…

dost.jpg

About Dilkash Shayari

All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on June 6, 2018, in Ghazals Zone, Nagama-e-Dil Shayari. Bookmark the permalink. 4 Comments.

  1. bahut khoop, ekdum dil se 🙂

    Liked by 1 person

  2. Hanji…Dil se….
    Shukriya Janab.

    Liked by 1 person

  3. You’re welcome !! Hoping to see more of you here friend 🙂

    Liked by 1 person

Comments / आपके विचार ही हमारे लिखने का पैमाना हैं.....ज़रूर दीजिये...

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: