Morning Special… तेरा नहीं मैं कभी परेशां न कर.!.!!


क्यों इक़रार नहीं तो ख्यालों में आते हो.!
खुद भी परेशां “सागर” को जगाते हो.!!

अर्ज़ है:-

अपने मासूम ख्यालों से,
परेशां न कर.!
तेरा  नहीं  मैं  कभी,
हैरान न कर.!!…

 

क्यों तेरा  इंतज़ार  रहता मुझे,
कोई और रास्ता दीखता नहीं,
इक अनजान को यूँ,
बेक़रार न कर…

 

रात ख्वाबों में  तूं आया था,
सुर्ख  जोड़े  को  पहने  हुवे,
ज़िन्दगी अपनी तूं,
वीरान न कर…

 

भूल जा “सागर” को भुलाने दे,
बिन अपने जीना सीख जाने दे,
मान जा देख दिल,
नादाँ न कर…

1

About Dilkash Shayari

All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on January 2, 2018, in Nagama-e-Dil Shayari. Bookmark the permalink. 2 Comments.

  1. Falaq ji Wish you a very Happy new year too…May God fulfill your all dreams&desires…

    Liked by 1 person

Comments / आपके विचार ही हमारे लिखने का पैमाना हैं.....ज़रूर दीजिये...

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: