प्यार किया नहीं जाता हो जाता है—-“सागर”


वो तेरा पीला सूट काशनी का दुप्पटा,
धड़का रहे”सागर“दिल को बहुत.!

इक बार इक़रार कर तो सही जानम,
मांग लूँ घर आ हाथ दम है बहुत.!!

yellow.jpg

क्या आप किसी का दर्द बांटना चाहते हैं…

कभी दूजों के घर भी आकर देखें,
कुछ दर्द भरे एहसास वहां भी मिलेंगे.!
सागर” जहाँ में वही मशहूर हुआ,
जो दर्द – एहसास सब का बाँट चलेंगे.!!

तो आइये साहेबान गुफ्तगू कर लेते हैं…

कहते हैं
प्यार किया नहीं जाता हो जाता है
किसी हद तक सही ही लगता है…
शायद एक वकील,डॉक्टर,टीचर अथवा कोई अन्य
इस बात को ना मानें…पर यही हकीकत है…,
अगर किसी को हो जाए और वो भूलना चाह रहा हो
पर सामने फिर आ जाए तो समझ सकते हैं…

जब आस छोड़ चुके जीने की,
उम्मीद बन फिर सामने आ बैठे.!
इतनी बेरुखी अच्छी नहीं होती,
आप “सागर“का दिल तोड़ बैठे.!!

सिथति तब और भी गंभीर हो जाती है जब जनाब आ पूछे
क्या बात आजकल बातों/शेरों में बड़ा दर्द ब्यान कर रहे हैं…?

अज़ी हज़ूर-ए-आला वो तो मर रहे हैं आपकी खातिर और आप हैंकि…

क़त्ल कर दिल का क़ातिल सवाल कर गया,
क्या बात तेरे शेर कोई दर्द ब्यान कर रहे हैं.!
यार “सागर” कुछ ना कह सका क़ातिल को,
जानते सब फिर भी क्या सवाल कर रहे हैं.!!

फिर कभी ऐसा भी लगता शायद आग दोनों तरफ बराबर पर…
 इसे संकोच कहें अथवा कोई मजबूरी है…

शर्म उनको है गर आती हमें भी तो डर है,
ब्यान कर दिया जो हाल-ए-दिल तो क्या जवाब मिलेगा.!
कहीं वक़्त इसी कश्मकश में बीत जाए ना,
किसीकी उठेगी डोली”सागर“तो कहीं अर्थी हार चढ़ेगा.!!

m.jpg

31/10/2017 at 7:54 AM

About Dilkash Shayari

All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on October 31, 2017, in From the Page of Personal Dairy., Shayari Khumar -e- Ishq. Bookmark the permalink. 5 Comments.

  1. Aap ne Jo ye Peele suit ka jikr cheda Hai phir se..kaun Hain vo mohtrma jis pe itne posts Hain sir..

    Liked by 1 person

  2. शायरों की तो बस कल्पना होती है,
    वही उसकी प्रेरणा भी…

    Like

  3. Kya baat Hai ! Hmein apki post ka intjar rhta Hai..always curious to read your blog

    Liked by 1 person

  4. It’s your Greatness Deepti Ma’am otherwise I’m nothing.

    Liked by 1 person

Comments / आपके विचार ही हमारे लिखने का पैमाना हैं.....ज़रूर दीजिये...

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: