Today… My Heart Is Crying…


अभी मुश्किल से दस मिनट्स पहले ही(रात्रि के बारह के आसपास) कहीं बाहर(Office-Work)से वापिस घर आना हुआ!
आज दिल एक नज़ारा देख बहुत ही दुखी हुआ!
रास्ते में आते हुए एक बड़े पुल पर खुले में कुछ बुजुर्ग औरत-आदमी सौते हुए देखे!
बारिश की फुहारें पड़ रही थी पर वो ग़रीब -लाचार फटे-पुराने कपड़ो से खुद को बचाने की
नाकाम कोशिश कर रहे थे!

हो सकता है कुछ बिन परिवार के हों?पर जिनके हैं??

शर्म आनी चाहिए उनके बच्चों या परिवार को जिन्हों नें उनको ऐसा जीवन दे रखा है?

‘एक माता-पिता दो-चार नहीं दस-दस बच्चे पाल-पौस सकते हैं परन्तू औलादें अपने एक माता-पिता को सही जीवन नहीं दे सकती’?

शायद वो ये भूल जाती हैं कि

इतिहास खुद को अवश्य दोहराता है“!

आज उनकी कल इनकी बारी होगी?

कई के अपने-अपने मसले और तर्क हो सकते हैं किन्तू फिर भी इसका ये मतलब नहीं हम अपने
बुजुर्गों को तन्हा खुले आसमान तले ज़िंदगी जीने को मजबूर कर दें?

उनसे पूछो जिनके माँ-बाप नहीं होते परिवार नहीं होता वो बतायेंगे ना होने का दर्द क्या होता है?

काश! हमारे माता-पिता ना सवर्ग वासी होते?

कुछ वर्ष पूर्व अपनी लिखी एक कविता की कुछ पंक्तियाँ अर्ज़ हैं:-

तेरा-मेरा कर के लड़ता रहा,
उमर भर धन इकठ्ठा करता रहा,
देख सामने मौत अपनी खड़ी,
सौचा ये सब किसके लिए करता रहा,
ना कुछ साथ लाया ना ले जाएगा,
यहाँ के रिश्ते यहीं छोड़ जाएगा………..
अब सौचता हूँ क्या अपना क्या बेगाना यहाँ,
उमर भर मोह-माया में क्यूँ पड़ता रहा……….

sss

आज सच में बहुत दुख और दर्द महसूस हो रहा!
खैर ज़िंदगी में कभी चार पासे पास हुए तो ज़रूर ऐसे लोगों के लिए एक छत और ख़ान-पान की
व्यस्था करने की पूरी हसरत है!!  @ सागर

sss

CRYING.jpg

Jul 18, 2016 6:58 PM

Advertisements

About Dilkash Shayari

"Everyone Thinks Changing The World,But No One Thinks Of Changing Himself" I'm Advocate(Lawyer) Writer&Poet All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on May 27, 2017, in Thought of the Day. Bookmark the permalink. 31 Comments.

  1. Thanks for Visit on My Blog.Ma’am.

    Liked by 1 person

  2. I always visit your blog. yesterday my Like button was not working but I was here x

    Liked by 2 people

  3. Thanks For Your Great Affection Ma’am.
    When U Post Some thing New?

    Liked by 1 person

  4. Probably tomorrow. Got a very busy life x

    Liked by 2 people

  5. Shukriya Aniruddh ji.

    Like

  6. But should not b true

    Liked by 1 person

  7. Nice, but parents ka rough attitude hi aur kit to Patti ka attitude hi yr sb sochne air krne ppr majbur krta h

    Liked by 1 person

  8. Vo kitty hate h, bachho ko play school, n aya k pas . for vo in sb me habitual hokr parents KO vahi treat krte h. unhe he kharab nhi lgta h.khte h kitty to inhone hi sikhayi.

    Liked by 1 person

  9. MRE Nov. Dec k blog me is PR hi h. Time mikal kr padiyega.

    Liked by 1 person

  10. Ho sakta hai But phir bhi Insaan ko Khud Achcha Hona Chahiye.

    Like

  11. Sahi likha hai! Ek taraf hum parents ko bhagwan kehte hai aur dusri taraf koi bhagwan ko kaise esi halat me rehne de sakta hai?
    Pata nahi kya soch ho gaye hai logon ki future se darte hi nahi hai. … Unko pata nahi hai ki kiye ki saza isi janam me milti hai… Atlast unko bhi esi sabh se guzarna hi padega

    Liked by 1 person

  12. Asal me him jaha rhte h, vaha ek lady ne khud kaha ki mail Vraddhashrm gayi,vaha PR ek lady muh chhupa rhi thi,use kisi bahane se dekhne ki koshish ki to pta laga ki he to kitty me a ati thi, bete ne he kaha ki mai bi to kindergarten me air aaya k pas RHA,mujhe to koi pareshani nhi Hui,ab kaun karega,yaha pause de dinga hr kam servant kr denge

    Liked by 1 person

  13. बेशक-बेशक…
    लगता है लोग Present में जीना पसंद करते हैं और Future की परवाह नहीं करते…??
    अपने विचार रखने वास्ते शुक्रिया सर!!

    Liked by 1 person

  14. दुनियां हर और निराली हो चली है…..

    Like

  15. पैसा ज़रूरत है किन्तु पैसा सब कुछ नहीं….

    Like

  16. Kya khub likha aapne……kitne biksit huye ham……kya soch ban gayaa….jaisi karni waisi bharni……

    Liked by 1 person

  17. शुक्रिया मधुसूदन जी,
    सही लिख विकसित ही तो हुए हैं,
    माँ-बाप ही नहीं सम्भाल सकते…?

    Liked by 1 person

Comments/विचार

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: