आ जाए कभी जो याद


आ  जाए  कभी  जो  याद  तो  हाल  पूछ  लेना.!
जिस्म  जहां  बेशक  रूह तेरे  शहर  में  ही  रहती  है.!!
वैसे  बताने   को   इतना  ही   काफी  बीमार  हूँ  लाचार  हूँ.!
सांसें  साथ  छोड़ने  को  पर  इक  उम्मीद  लगी  रहती  है.!!

Advertisements

About Dilkash Shayari

"Everyone Thinks Changing The World,But No One Thinks Of Changing Himself" I'm Advocate(Lawyer) Writer&Poet All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on March 26, 2017, in Shayari Khumar -e- Ishq. Bookmark the permalink. 12 Comments.

  1. विश्वास नहीं करेंगे पर अभी अभी एक पुराना कॉमेंट आपका पढ़ा और मन में आया की जाने कहाँ ग़ायब हैं ? और सोचते सोचते मेल बॉक्स खोला , आश्चर्य की पहल नोटिफ़िकेशन ये था ” आजाए अगर कभी याद ” 😂😂🙏 बहुत ख़ूबसूरत शायरी हमेशा की तरह । एक आग्रह नए दोस्तों में पुराने दोस्टिं को नहीं भूलना चाहिए । माँ सरस्वती की कृपा यूँ ही बनी रहे आप पर 🙂 बस एक हँसता हुआ शेर इस दफ़ा मेरे लिए ।

    Liked by 2 people

  2. विश्वास नहीं करेंगे पर अभी अभी एक पुराना कॉमेंट आपका पढ़ा और मन में आया की जाने कहाँ ग़ायब हैं ? और सोचते सोचते मेल बॉक्स खोला , आश्चर्य की पहल नोटिफ़िकेशन ये था ” आजाए अगर कभी याद ” 😂😂🙏 बहुत ख़ूबसूरत शायरी हमेशा की तरह । एक आग्रह नए दोस्तों में पुराने दोस्टिं को नहीं भूलना चाहिए । माँ सरस्वती की कृपा यूँ ही बनी रहे आप पर 🙂 बस एक हँसता हुआ शेर इस दफ़ा मेरे लिए ।

    Liked by 1 person

  3. Thats my dads blog if u follow it will be a pleasure and even if not just delete that comment plz

    Liked by 2 people

  4. After a long time. Welcome!😊

    Liked by 2 people

  5. What a way of come back🙏🏻
    Jabardast shayari 👌🏻👌🏻

    Liked by 1 person

  6. Shukriya Jyotsana ji.

    Like

  7. Kaise hain Sagarji ?

    Liked by 1 person

  8. Theek-Thaak Jyotsana ji
    Aap?

    Liked by 1 person

  9. Sab badhiya , bahut dino se dikhe nahin isliye poocha

    Liked by 1 person

  10. Aapne Apna Kimati Waqt Nikal Haal-Chaal Poocha Dhanywad Jyotsanaji.

    Liked by 1 person

  11. Doston ko yun dhanyawad dete hain

    Liked by 1 person

  12. Har Rishta Tahzeeb Se Qamyab Rehta Hai Jyotsanaji.

    Like

Comments/विचार

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: