दुनियाँ पहले कभी किसी के लिए रुकी है??


आप कहाँ है और किस हाल में हैं
यहाँ किसी को नहीं फिक्कर !
दुनियाँ ना पहले कभी किसी के लिए
रुकी-थमी है ना अब रुकेगी ?
वैसे भी आम इंसान की फिक्कर ही
किसे है ?
हो सकता है कोई लाचार हो बीमार हो
या फिर मौत से लड़ कर आया हो
और अब भी पूरी तरह से ठीक ना हो
आप हैं कि सोचते हों बन्दा भला-चंगा है
आप से यूँही बिन बात ना बतिया रहा है ?

अर्ज़ किया है:-

 

छुप  गया  हूँ  किधर,
कहाँ और क्यूँ – कैसे,
इक बार आकर तो पूछते.!

ज़िंदगी इतनी सस्ती नहीं,
कि अपने भुलाए जायें,
साथी यूँ ऐसे नहीं रूठते.!!

Chup Gaya Hun Kidhar,

Kahan Aur Kyun-Kaise,

Ik Baar Aa Kar To Poochate.!

Zindagi Itni Sasti Nahin,

Ki Apne Bhulaye Jayein,

Sathi Yun Aise Nahin Ruthate.!!

Advertisements

About Dilkash Shayari

"Everyone Thinks Changing The World,But No One Thinks Of Changing Himself" I'm Advocate(Lawyer) Writer&Poet BHOPAL All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on February 2, 2017, in Shayari Khumar -e- Ishq. Bookmark the permalink. 20 Comments.

  1. बहुत खूब..👌👌👌

    Liked by 2 people

  2. शुक्रिया ज्योती जी

    Liked by 1 person

  3. यार! ये कलरफुल कैसे लिखते हो आप..😐😐

    Liked by 1 person

  4. जब आप Write में जाते हैं HTMLमें जाइए और वहाँ तीन फुल स्टॉप दिखाई देंगे उनको किल्क कीजये
    A लिखा आएगा वहीं आपको मनचाहे कलर्स मिल जायेंगे ज्योती जी.

    Liked by 2 people

  5. Thank you so much…sirf jyoti chalega😊😊😊

    Liked by 1 person

  6. You’re Welcome Jyoti ji
    मुश्किल है ऐसा लिखना ज्योती जी

    Liked by 1 person

  7. Thanks for It Jyotiji.

    Like

  8. Reality conveyed ..Bahot he khoobsurat khayal hai aapke 😀👍👌

    Liked by 2 people

  9. ज़्यादा कुछ नहीं बस जो दुनियाँ ने दिखाया-सिखाया
    वही शब्दों में उतारने की नाकाम कोशिशें हैं रवीन्दर जी,
    पर आपसे बेहतर नहीं

    Liked by 1 person

  10. Welcome back sir ji……sach ar dard ka.bahut hi adbhut rachna…jabardast

    Liked by 1 person

  11. वाह वाह क्या बात है

    Liked by 3 people

  12. शुक्रिया सचिन जी

    Liked by 1 person

  13. 👌👌👌👌👌👌👌

    Like

  14. Bahut khoob phir ek baar .. 🙏🌹🌹

    Like

Comments/विचार

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: