Oh.!! Innocent…Please…


क्यूँ आप इतनी जल्दी किसी पर यक़ीन करने लगते हैं?जबकि आप उन्हें जानते ही कितना हैं?जुम्मा-जुम्मा एक-दो-या कुछ दिन से??
माशाल्लाहा आप खूबसूरत हैं हसीन हैं और
ऊपर से अकल्मंद भी?फिर भी??
आख़िर क्यूँ लुभावनी बातों में आ रहे हैं?

आपकी अपनी कोई वजह या तर्क हो सकते हैं पर फिर भी ये ठीक नहीं…..
अर्ज़ है:-0009ed5b

अंजान शक्सियतों से दोस्ती किया नहीं करते,
ख़ुदग़र्ज़ बेवफा ज़माने में यूँ एक  दम यक़ीन किया नहीं करते.!
लोग यहाँ चेहरा पर  चेहरा  लगा  मिला करते,
कहे’सागर‘यारा यूँ अनजानों को एक पल में दिल दिया नहीं करते.!!

Anjaan Shaksiyaton  Se  Dosti Kiya Nahin Karte,

Khudgarz Bewafa Zamaane Mein Yun Ek Dum Yaqeen Kiya Nahin Karte.!

Log Yahan Chehara Par Chehara Laga Mila Karte,

Kahe ‘Sagar‘ Yaara Yun  Anjaanon  Ko Ek  Pal  Mein Dil Diya Nahin Karte.!!

Advertisements

About Dilkash Shayari

"Everyone Thinks Changing The World,But No One Thinks Of Changing Himself" I'm Advocate(Lawyer) Writer&Poet All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on December 5, 2016, in Thought of the Day. Bookmark the permalink. 2 Comments.

  1. सही बात 👍

    Liked by 1 person

  2. जी शुक्रिया सरिता जी

    Like

Comments/विचार

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: