On Some Once Request…


Wow😍. Pls write on a girl who wants her boy back. See ! She doesn’t wants him. All she want the time back when he was after him. When his eyes were on her. When he badly wanted her. But she said no. Now she wants him. But he said no.

Pls pls write on this😊its a humble request. I love reading shayri💗

a4a0528ccab25b9881348ff5b47ad184_we

सौचा था अब किसी पर कभी कुछ ना लिखेंगे पर किसी के मासूम दिल को
तोड़ने की हिम्मत जुटा ना पाए!
पापा कहा करते थे कोई अगर आपसे कुछ कहता/माँगता है इसका मतलब
वो आप पर बहुत यक़ीन करता है उसको आप से बड़ी उम्मीद है उसे निराश
नहीं करना चाहिए
शायर का दिल बड़ा कोमल,जवान,हुस्न की तारीफ करने वाला,देश प्रेमी और
सामाजिक बुराईओं के खिलाफ आवाज़ बुलंद करने वाला होया है!
किसी की Request पर ये नज़्म लिखी है अच्छी है या बुरी इसका फ़ैसला आप
पर है!
अर्ज़ है:-

a4a0528ccab25b9881348ff5b47ad184_we

जब वो हमारे पीछे आते थे,
हम ना – ना बहुत करते थे.!

अपने  हुस्न  पर  था  गुमान  हमें,
हर पल उनको तरसाया करते थे.!!

सुबहा होते ही घर के सामने होते,
हम मुँह फेर खिड़की बंद कर लेते.!

नादान थे पागल थे पता नहीं’सागर‘,
पर उनको ना-उम्मीद बहुत करते थे.!!

वक़्त गुज़रा सिलसिला यूँही चलता रहा,
उनकी हर शय पर मात उनको देते थे.!

अपनी  यही  कम  नसीबी  थी ‘सागर‘,
हम  मुहब्बत  को  रुसवा  करते  थे.!!

हर सच्ची दुआ क़बूल होती इक दिन,
सखियों से अक्सर हम सुना करते थे.!

उनकी शिद्दत पर प्यार आने लगा था,
ना मुँह पे होती पर इंतज़ार करते थे.!!

हर बात की एक हद होती अब जाना,
दिल्लगी  क्या  होती  दिल  लगा जाना.!

अब पछताए क्या होत चिड़िया चुग गयी खेत,
औरों के दीवाने हुए कल तक आगे-पीछे थे.!!

सच कहती यारा’सागर‘ऐसा कभी ना करना,
किसी  की  मुहब्बत पर शक कभी ना करना.!

किरदार बदल जाते फ़लसफ़ान वैसे ही रहते,
उनपर  प्यार  जब – तक  आया  वो  बेगाने थे.!!

20.jpg

Jab Wo Hamare Piche Aate The,

Hum Na-Na Bahut Karte The.!

Apne Husn Par Tha Guma Hamein,

Har Pal Unko Tarsaya Karte The.!!

Subaha Hote Hi Ghar Samane Hote,

Hum Munh Pher Khidki Band Kar Lete.!

Nadan The Pagal The Pata Nahin’Sagar‘,

Par Unko Naummeed Bahut Karte The.!!

Waqt Guzara Aur Silsila Yunhi Chalta Raha,

Unki Har Shay Pa Maat Unko Dete The.!

Apni Yahi Kam Naseebi Thi’Sagar‘,

Hum Muhabbat Ko Ruswa Kate The.!!

Har Sachi Dua Qabool Hoti Ik Din,

Sakhiyon Se Aksar Hum Suna Karte The.!

Unki Shiddat Par Pyaar Aane Laga Tha,

Na Munh Pe Hoti Intzar Unka Karte The.!!

Har Baat Ki Ek Had Hoti Ab Jaana,

Dil Ki Lagi Kya Hoti Dil Laga Jaana.!

Ab Pachchtaye Kya Hot Chidiya Chug Gayi Khet,

Auron Ke Diwane Huye Kal Tak Aage-Piche The.!!

Sach Kehti Yaara’Sagar‘Aisa Kabhi Na Karna,

Kisi Ki Muhabbat Par Shak Kabhi Na Karna.!

Kirdar Badal Jaate Falsfan Waise Hi Rahte,

Unpar Pyaar Jab-Tak Aaya Wo Begane The.!!

About Advo. R.R.'SAGAR'

"Everyone Thinks Changing The World,But No One Thinks Of Changing Himself" I'm Advocate(Lawyer) Writer&Poet All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission. @R.R'Sagar' (ADVOCATE)

Posted on October 7, 2016, in Nagama-e-Dil Shayari. Bookmark the permalink. Leave a comment.

Comments/विचार

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: