The Voice of The Heart …


ज़िन्दगी की राहों पर चलते-चलते कई बार ऐसा होता है
कोई अनचाहा-अनजाना-सा आपको मिल जाता है जिसकी
इतेफाक से कुछ अथवा बहुत सारी आदतें/स्वभाव/बातें
आपसे मैच करती हैं…
वो इंसान अचानक आपको प्रिय हो जाता है अपना-सा लगने
लगता है?उसकी जरूरतें/भावनाएं जो आपसे मिलती हैं?
किन्तु जब आप के दिल को बड़ी ठेस लगती है जब वो
व्यक्ति “आपको Stranger /Weird/Unfaithful कहे !
आप पर शक़ करे !
आपके व्यक्तित्व को ही नकार दे?
शायद इसी का नाम ज़िन्दगी है

100-a.jpg

But Please My Dear Whole World Is Not Like That?

Always Exceptions Are There…

Trust On Yourself…

Your Choice…

Your Recommendation…

a4a0528ccab25b9881348ff5b47ad184_we

कई दिन से वो बैठे हैं मुंह  लटकाये हुए,
बिन बतियाए कुछ और बिन खाये हुए.!

इतना सितम यारा’सागर‘पे अच्छा नहीं,
देखो खुद भी कितना हो मुरझाये हुए.!!

Posted on October 6, 2016, in Thought of the Day. Bookmark the permalink. 10 Comments.

Comments/विचार

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: