Dedicated To Some One Special…


 

कभी-कभी कोई बात किसी और के लिए होती है
और यार-दिलदार उसे अपने पर ले जाते हैं!
क्या इतना ही यक़ीन होता है उनको खुद पर?
अर्ज़ है:

images-8

हर बात को खुद पर लेते हैं,
मेरे महबूब कुछ ऐसे हैं.!

दुनियाँ का क्या मुक़ाबला करेंगे,
दिल के इतने वो मीठे हैं.!!

उनकी शिक़ायत सुन दिल को,
दर्द बहुत हो आया है.!

कहा किसी और को जो था,
वो दिल पर क्यूँ ले बैठे हैं.!!

कैसी दोस्ती कैसी ये मुहब्बत,
जो बेबात मुँह फूला बैठे हैं.!

अपनों पर यक़ीन होना चाहिए,
क्या इतना ही यक़ीन करते हैं.!!

वाह’सागर‘क्या मुक़द्दर है,
पल में बेगाने हो जाते हैं.!

क्यूँ  कर  जियें  दुनियाँ  में,
बेवजह  ही  जिए  जाते  हैं.!!

sher

Har Baat Ko Khud  Par  Lete  Hain,

Mere Mehboob Kuch Aise Hain.!

Duniyan Ka Kya Muqabla Kareinge,

Dil  Ke  Itane  Wo   Mithe  Hain.!!

Un   Kee   Shiqaayat   Sun   Dil  Ko,

Dard    Bahut    Ho    Aaya   Hai.!

Kaha   Kisi   Aur   Ko   Jo   Tha,

Wo Dil Par Kyun Le Baithe Hain.!!

Kaisi  Dost i Kaisi Ye  Muhabbat,

Jo Bebaat Munh Fula Baithe Hain.!

Apnon Par Yaqeen Hona Chahiye,

Kya Itna Hi Yaqeen Karte Hain.!!

Waah’Sagar‘Kya Muqaddar Hai,

Pal Mein Begane Ho Jaate Hain.!

Kyun Kar Jiyein Duniyan Mein,

Bewajaha  Hi  Jiye   Jaate Hain.!!

 

About Advo. R.R.'SAGAR'

"Everyone Thinks Changing The World,But No One Thinks Of Changing Himself" I'm Advocate(Lawyer) Writer&Poet All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission. @R.R'Sagar' (ADVOCATE)

Posted on October 2, 2016, in Ghazals Zone. Bookmark the permalink. 6 Comments.

Comments/विचार

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: