Her Love.!!Beautiful Tragedy…Sweet Pain…


उन से प्यार क्या हुआ था ज़िंदगी में बस मज़ा ही मज़ा था,
ना खाने की चिंता ना सोने की फिक्कर थी!
ज़िंदगी जैसे पंछी समान आसमान पर उड़ रही थी!
अर्ज़ है:-

3e27712d-9043-4302-aa8a-d4898f2ab058

उन संग मुहब्बत इक खूबसूरत हादसा था.!
घायल  हुए  दिल  का  दर्द  बड़ा  सुहाना था.!!

इठला उन का स्कूटर पर बैठना,
कमर में हाथ डाल के गुदगुदाना,
उसके बाद तो बस वाक़या ही वाक़या था.!!

खूब थे दिन खूब थी वो शामें,
ज़मीन पर थे आसमान की बातें,
आँखों  में  अपने  बस नशा ही नशा था.!!

खाते थे वो साथ जीने की कस्में,
हर जन्म साथ निभाने की रस्में,
वक़्त आया  जब ‘सागर‘ तन्हा – तन्हा था.!!

19

Un  Sang  Muhabbat  Ik  Khubsurat  Hadsa Tha.!

Ghayal  Hue  DIL  Ka  Dard  Bada  Suhaana Tha.!!

Ithalaa  Un Ka Sacootar Par Baithna,

Kamar Mein Hath Dal Ke Gudgudana,

Uske  Baad  To  Bas  Wakaya  Hi  Wakaya Tha.!!

Khub The Din Khub Thi Wo Shamein,

Zameen Par The Aasmaan Ki Baatein,

Aankhon Mein Apne Bas Nasha Hi Nasha Tha.!!

Khate The Wo Saath Jine Ki Kasmein,

Har Janm Sath Nibhaane Ki Rasmein,

Waqt  Aayaa  J ab ‘Sagar‘ Tanha – Tanha Tha.!!

 

About Advo. R.R.'SAGAR'

"Everyone Thinks Changing The World,But No One Thinks Of Changing Himself" I'm Advocate(Lawyer) Writer&Poet All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission. @R.R'Sagar' (ADVOCATE)

Posted on October 1, 2016, in Nagama-e-Dil Shayari. Bookmark the permalink. 6 Comments.

  1. बहुत खूब लिखा है आपने | मेरा माननाहै की कसमें और वादे अक्सर टूट जाते हैं या तोड़े जाते हैं…. सिर्फ और सिर्फ कोशिशें ही कामयाब होती हैं….

    Liked by 1 person

  2. तोड़े जायें या टूट जायें दोनो ही सूरत में दर्द तो होता ही है ना?
    आपने पढ़ा और अपने खूबसूरत बेबाक विचार दिए शुक्रिया रंजीता जी!

    Liked by 1 person

  3. pain of love !:p

    we will talk soon :p

    Liked by 1 person

  4. Love is Always Painful,U Found Or Loose…
    Thanks Jyotee ji,U Visit on My Blog.&
    Always Welcome.

    Liked by 1 person

  5. I agree!

    yeah! I wil com n I m alwz along : p

    Liked by 1 person

  6. Okay Thanks Jyotee Ji.
    डूबते को तिनके का सहारा ही काफ़ी होता’सागर’में.!
    आओगे ज़रूर कर लेते हैं यक़ीन इन कलयुगी रिवाज़ों में.!!

    Liked by 1 person

Comments/विचार

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: