End Is Must…


हर सुबहा जब होती है तो यक़ीनन ज़िंदगी एक दिन और गुज़र जाती है
या यूँ कहें ज़िंदगी एक दिन और बढ़ जाती है!
इसी पर एक ख़याल ग़ज़ल में पेश है!

अर्ज़ किया है:-744e6e1ae5ed21cae9884cc5a47b88a7_we_zpsxdox8bs5

हर सुबहा की शाम ज़रूर होती है.!
यूँ  ज़िंदगी  की  मौत  ज़रूर  होती है.!!

कोई भी ऐसी शय नहीं अमर रहे.!
हर शुरूवात की अन्त ज़रूर होती है.!!

क्यूँ लड़ते हो बात-बात  पर यारो.!
तक़रार के बाद इक़रार ज़रूर होती है.!!

किसी का इन्तजार आख़िर दे सकूँ.!
क्यूँकि बाद मुलाकात  ज़रूर  होती है.!!

नफ़रत जिससे सबसे ज़्यादा’सागर‘.!
उसी  से  मुहब्बत  भी  ज़रूर  होती है.!!

zarur.jpg

Har Subaha Ki Shaam Zarur Hoti Hai.!

Yun Zindagi Ki Maut Zarur Hoti Hai.!!

Koyi Bhi Aisi Shay Nahin Amar Rahe.!

Har Shuruvat Ki Ant Zarur Hoti Hai.!!

Kyun Ladte Ho Baat-Baat Par Yaaro.!

Taqraar Ke Baad Iqraar Zarur Hoti Hai.!!

Kisi Ka Intzaar Aakhir De Sakun.!

Kyunki Baad Mulaqaat Zarur Hoti Hai.!!

Nafrat Jisse Sabse Jyaada ‘Sagar‘.!

Usi Se Muhabbat Bhi Zarur Hoti Hai.!!

About Advo. R.R.'SAGAR'

"Everyone Thinks Changing The World,But No One Thinks Of Changing Himself" I'm Advocate(Lawyer) Writer&Poet All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission. @R.R'Sagar' (ADVOCATE)

Posted on September 25, 2016, in Ghazals Zone. Bookmark the permalink. Leave a comment.

Comments/विचार

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: