A Finger


ज़िंदगी में इतने संग दिल ना बानिए या यूँ कहें ऐसे

भी किसी से बात ना करें कि

दोस्ती की गुंजाइश ही ना रह जाए
ज़रूरी नहीं जैसा आप आज किसी व्यक्ति-विशेष

के बार में सौचते हों कल भी आपकी उसके प्रति

वही सौच रहे?तब उससे आप क्या उम्मीद करेंगे?

संबंध बिगाड़ना एक मिनट का काम है बनाने में

सदियाँ भी लग सकती हैं

आप हमेशां किसी को अकेले ही दोषी नहीं ठहरा

सकते?हो सकता है आपकी भी कोई ग़लती हो

जिसे आप नज़रअंदाज़ कर गये हों ? वक़्त गुज़र

जाता है और फिर वो लौट कर नहीं! आपकी

ज़रा-सी नादानी आपको उमर भर का 

अफ़सोस दे सकती है ?’

और हां चलते-चलते ‘नाम होने या रख लेने से

ही कोई सूरज,रोशनी,प्रताप,चाँदनी-‘सागर 

आदि-आदि नहीं हो जाता?उसके लिए आप के

कर्म उत्तरदायी होते हैं ?
अच्छे कर्मों में यक़ीन रखिए दुनियाँ वर्तमान

भूत और भविष्य में भी आपको याद रखेगी!  

 ssemras2

एक उंगली उस की तरफ़ की,
चार  खुद   पर   उठा  ली.!

अपना दामन ना देखा,
ग़लती दूजे की निकाल ली.!!

5

Ek Ungli Us Ki Tarf Ki,

Chaar Khud Par Utha Lee.!

Apna Daman Na Dekha,

Galti Duze Ki  Nikaal Lee.!! 

Posted on July 28, 2016, in Thought of the Day. Bookmark the permalink. 8 Comments.

  1. Sahi baat hai.🙂

    Liked by 2 people

  2. Aap Jaise Achche-Sahi Insaanon Se Yahi Ummeed Rehti Hai
    ‘Sahi Sauch aur Samjh’Shmabhavi ji.

    Liked by 2 people

  3. Thanks!😀 You’re too humble! Stay blessed and have a great weekend! ^_^

    Liked by 1 person

  4. Not More Than U Shambhavi Ji.
    Your Too.

    Liked by 1 person

  5. As I mentioned you’re too kind!🙂🙂

    Liked by 1 person

  6. It’s Okay.But U Too.

    Liked by 1 person

Comments/विचार

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: