Today My Heart Is Crying ….


अभी मुश्किल से दस मिनट्स पहले ही(रात्रि के बारह के आसपास) कहीं बाहर(Office-Work)से वापिस घर आना हुआ!
आज दिल एक नज़ारा देख बहुत ही दुखी हुआ!
रास्ते में आते हुए एक बड़े पुल पर खुले में कुछ बुजुर्ग औरत-आदमी सौते हुए देखे!
बारिश की फुहारें पड़ रही थी पर वो ग़रीब -लाचार फटे-पुराने कपड़ो से खुद को बचाने की
नाकाम कोशिश कर रहे थे!

हो सकता है कुछ बिन परिवार के हों?पर जिनके हैं??

शर्म आनी चाहिए उनके बच्चों या परिवार को जिन्हों नें उनको ऐसा जीवन दे रखा है?

‘एक माता-पिता दो-चार नहीं दस-दस बच्चे पाल-पौस सकते हैं परन्तू औलादें अपने एक माता-पिता को सही जीवन नहीं दे सकती’?

शायद वो ये भूल जाती हैं कि’इतिहास खुद को अवश्य दोहराता है“!

आज उनकी कल इनकी बारी होगी?

कई के अपने-अपने मसले और तर्क हो सकते हैं किन्तू फिर भी इसका ये मतलब नहीं हम अपने
बुजुर्गों को तन्हा खुले आसमान तले ज़िंदगी जीने को मजबूर कर दें?

उनसे पूछो जिनके माँ-बाप नहीं होते परिवार नहीं होता वो बतायेंगे ना होने का दर्द क्या होता है?

काश! हमारे माता-पिता ना सवर्ग वासी होते?

कुछ वर्ष पूर्व अपनी लिखी एक कविता की कुछ पंक्तियाँ अर्ज़ हैं:-

तेरा-मेरा कर के लड़ता रहा,
उमर भर धन इकठ्ठा करता रहा,
देख सामने मौत अपनी खड़ी,
सौचा ये सब किसके लिए करता रहा,
ना कुछ साथ लाया ना ले जाएगा,
यहाँ के रिश्ते यहीं छोड़ जाएगा………..
अब सौचता हूँ क्या अपना क्या बेगाना यहाँ,
उमर भर मो-माया में क्यूँ पड़ता रहा……….

sss

आज सच में बहुत दुख और दर्द महसूस हो रहा!
खैर ज़िंदगी में कभी चार पासे पास हुए तो ज़रूर ऐसे लोगों के लिए एक छत और ख़ान-पान की
व्यस्था करने की पूरी हसरत है!!  @ सागर

sss

CRYING.jpg

About Advo. R.R.'SAGAR'

"Everyone Thinks Changing The World,But No One Thinks Of Changing Himself" I'm Advocate(Lawyer) Writer&Poet All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission. @R.R'Sagar' (ADVOCATE)

Posted on July 18, 2016, in Thought of the Day. Bookmark the permalink. 14 Comments.

  1. Thanks for Visit on My Blog.Ma’am.

    Liked by 1 person

  2. I always visit your blog. yesterday my Like button was not working but I was here x

    Liked by 2 people

  3. Thanks For Your Great Affection Ma’am.
    When U Post Some thing New?

    Liked by 1 person

  4. Probably tomorrow. Got a very busy life x

    Liked by 2 people

  5. Shukriya Aniruddh ji.

    Like

Comments/विचार

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: