ज़िंदगी की कमी है तू…


इस रूमानी रात में यादों के झरोखों से एक ग़ज़ल बन पड़ी!
कुछ साल पहले इस का पहला भाग लिखा था जो यहीं पीछे
की पोस्ट में लिखी है,
आज अगला भाग लिखने की कोशिश की है,
कब-कुछ गुज़रा याद आ जाए ये इंसान के अपने बस में नहीं  

अर्ज़ है:-ssemras2

मेरी ज़िंदगी की कमी है तू,
जिसे चाहा कर ना भुला सकूँ.!

जो हवा  मुझे दर्द दे गयी,
वो  तेरे गमों  को  ले  उड़े.!!

मेरा वक़्त तो गुज़र गया,
तेरे सामने है अभी ज़िंदगी पड़ी.!

तू अभी-अभी जवान हुई,
मेरी ज़िंदगी की शाम ढाल चुकी.!!

एक दिल ही है सीने में,
बता और को मैं क्या दे सकूँ.!

चाहा तुझे बेशुमार मैने,
किसी और से ना वफ़ा कर सकूँ.!!

तेरी ख्वाहिश ना रहे अधूरी,
है खुदा से दुआ दिन-रात यही.!

तेरी चाहत तुझे नसीब हो,
है रब्ब से भी हरदास यही.!!

kami.jpg

Meri Zindagi Ki Kami Hai Tu,

Jise Chaha Kar Na Bhula Sakun.!

Jo Hawa Mujhe Dard De Gayi,

Wo   Tere   Gumon   Ko  Le  Ude.!!

Mera Waqt To Guzar Gaya,

Tere Samne Hai Abhi Zindagi Padi.!

Tu Abhi-Abhi Jawan Huyi,

Meri Zindagi Ki Shaam Dhal Chuki.!!

Ek Dil Hi Hai Seene Mein,

Bata Aur Ko Main Kya De Sakun.!

Chaha Tujhe Beshumar Maine,

Kisi Aur Se Na Wafa Kar Sakun.!!

Teri Khwahish Na Rahe Adhuri,

Hai Khuda Se Dua Din-Raat Yahi.!

Teri Chahat Tujhe Naseeb Ho,

Hai  Rabb  Se  Bhi  Hardaas  Yahi.!!

Advertisements

About Dilkash Shayari

"Everyone Thinks Changing The World,But No One Thinks Of Changing Himself" I'm Advocate(Lawyer) Writer&Poet All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on July 12, 2016, in Ghazals Zone. Bookmark the permalink. Leave a comment.

Comments/विचार

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: