अपनी कुर्सी की ही पड़ी है.!!


lines-flowers-and-nature-236299

प्रस्तुत रचना ऑनलाइन रह कर ही लिखी है,अगर कुछ गल्त लिखा गया हो तो इसका खेद है,वैसे भाई बुरा ना मानना होली है…
अर्ज़ है:-

lines-flowers-and-nature-236299

हम ना चाहते थे पर आपने बुलवा ही दिया, 
नेता जी आख़िर हमरा मुँह खुलवा ही दिया,
चारो और भुखमरी और बेरोज़गारी पड़ी है,
आप को तो बस अपनी कुर्सी की ही पड़ी है…

जहाँ देखो अराजकता ही अराजकता तोड़-फोड़,
कहीं नारों का शोर कहीं परिवार में मातम,
सरहद पे मरते सैनिक खेत में दम तोड़ते किसान,
आप को तो बस आगामी चुनाव की पड़ी है…..

जहाँ हो नफे का सौदा नेता जी आप हाजिर वहाँ,
जहाँ ना कोई लाब दिखे आप गैर हाजिर वहाँ, 
पड़ाई के मंदिर बने हैं आज राजनीति का मैदान,
आप को क्या लेना-देना लड़वाने की पड़ी है…..

किसने कहा एक-दूजे की आलोचना करना गुनाहा है,
देश से संबंधित मुद्दों पे बहस करना मना है,
बहस करिए खूब करिए पर संसद चला काम करिए,
आप को काम छोड़ संसद रुकवाने की पड़ी है….. 

माना आप सब एक जैसे नहीं कुछ बुरे सब नहीं,
काम की चिंता करते हैं और कामचोर भी नहीं,
अदना-सा इंसान हूँ कुछ गल्त कहा तो माफ़ करना,
आप पर ही तो मेरे जैसों की नज़रें गड़ी हैं…..

प्यारे.jpg

 Hum Na Chahate The Par Aapne Bulwa Hi Diya, 

Neta Jee Aakhir Humaara Munh Khulwa Hi Diya,

Chaaro Aur Bhukhmari Aur Berozgaari Padi Hai,

Aap Ko To Bas Apni Kursi Ki Hi Padi Hai…

Jahan Dekho Araajakta Hi Araajakta Todh-Phod,

Kahin Naaron Ka Shor Kahin Pariwar Mein Matam,

Sarhad Pe Marte Sainik Khet Mein Dum Todte Kisan,

Aap Ko To Bas Aagami Chunaw Ki Padi Hai…..

Jahan Ho Nafe Ka Sauda Neta Ji Aap Hajir Wahan,

Jahan Na Koyi Laab Dikhe Aap Gair Hajir Wahan, 

Padai Ke Mandir Bane Hain Aaj Rajniti Ka Maidan,

Aap Ko Kya Lena-Dena Ladwane Ki Padi Hai…..

Kisne Kaha Ek-Duje Ki Aalochna Karna Gunaaha Hai,

Desh Se Smbandhit Muddo Pe Behas Karna Mana Hai,

Behas Kariye Khub Kriye Par Sansad Chala Kaam Kriye,

Aap Ko Kaam Chod Sansad Rukwane Ki Padi Hai….. 

Mana Aap Sab Ek Jaise Nahin Kuch Bure Sab Nahin,

Kaam Ki Chinta Karte Hain Aur Kamchor Bhi Nahin,

Adna-Sa Insaan Hun Kuch Galt Kaha To Maaf Karna,

Aap Par Hi To Mere Jaison Ki Nazarein Gadi Hain…..

 

                                         At:3:36A.M.

 

About Dilkash Shayari

"Everyone Thinks Changing The World,But No One Thinks Of Changing Himself" I'm Advocate(Lawyer) Writer&Poet All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on March 24, 2016, in Nagama-e-Dil Shayari, Shayari Occasion Zone, Shayari-e-Watan. Bookmark the permalink. 8 Comments.

  1. Touched….to the bottom of my heart

    Liked by 1 person

  2. Thanks Allot Ravindra Ji.

    Liked by 1 person

  3. So appropriate 👏👏👏

    Liked by 1 person

  4. Pleasure 🙂

    Liked by 1 person

  5. I wish that there’s a transcribed version of this fine writing.

    Liked by 1 person

Comments/विचार

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: