कहाँ हैं वो पनघट की छोरियाँ.!!


आज भी याद है जब कभी अपने गाँव जाना होता था गाँव की प्यारी-सी बालओं को पानी भरने के लिए सर पर मटका-घागरी लेकर जाना देखा करते थे,वक़्त गुज़रा और अब वो मंज़र नसीब नहीं?पर खुशी इस बात की है आज पानी के लिए दूर-दूर नहीं जाना पड़ता!इसी पर अपना लिखा एक और कलाम पेश-खिदमत है:-

  ना  पनघट  रहे  और ना गाँव की वो छोरियाँ.!
  चलती लाज से ठुमक-ठुमक जैसे मोरनियाँ .!!

नये  ज़माने  की  भेंट  चढ़ि  सारी वो पहेलियाँ.!
पानी लेने जाती मिलकर पनघट सब सहेलियाँ.!!

  जो देखता हुस्न मेला दिल लेता उसका हिलोरियाँ.!
  मीठी-मीठी  बातें उनकी जैसे गन्ने दी गिलोरियाँ.!!

कितना था अपनापन और लगती सब हमजोलियाँ.!
क्या  लिखूं  क्या  ना  लिखूं  क्या थी वो किशोरियाँ.!!

  रूप रंग में अप्सराओं जैसी थी  मन-मोहनियाँ.!!
  कहाँ हैं यारो अब वो पनघट  की चित्त चोरनियाँ.!!

 

 

Na Panghat Rahe Aur Na Ganw Ki Wo Choriyan.!

Chalti Laaj Se Thumak-Thumak Jaise Morniyan.!!

Naye Zamane Ki Bhent Chadhi Sari Wo Pehliyan.!

Pani  Lene Jaati Mil kar  Panghat Sab Saheliyan.!!

Jo Dekhta Husn Ka Mela Dil Leta Uska Hiloriyan.!

Mithi-Mithi Batein Unki Jaise Ganne Di Giloriyan.!! 

Kitana Tha Apna-pan Aur Lagati Sab Humjoliyan.!

Kya Likhun Kya Na Likhun Kya Thi Wo Kishoriyan.!!

Roop Rng Mein Apsaraon Jaisi Thi Man Mohaniyan.!!

Kahan Hain Yaaro Ab Wo Panghat Ki Chit Chorniyan.!!

Advertisements

About Dilkash Shayari

"Everyone Thinks Changing The World,But No One Thinks Of Changing Himself" I'm Advocate(Lawyer) Writer&Poet BHOPAL All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on February 27, 2016, in Nagama-e-Dil Shayari. Bookmark the permalink. 2 Comments.

Comments/विचार

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: