WISH YOU A HAPPY REPUBLIC DAY.!!


अपने देश से हर कोई मुहब्बत करता है,वो जवानी/ज़िंदगानी किस काम की जो वतन खातिर मिटने-मिटाने को तैयार ना रहे? हर किसी की हसरत एक दिन वो अपने देश के लिए कुछ कर जाए?हर किसी को अपना देश अच्छा लगता है तो यक़ीनन हमें भी लगता है और लगे भी क्यूँ ना हमारा देश ही है ऐसा!सब जाति-धर्मों को मानने वाला,भाईचारे से रहने वाला,अमन की भाषा बोलने वाला,रिश्ते-नाते को निभाने वाला,सुख-दुख में साथ देने वाला…..
अपने देश हिन्दुस्तान को समर्पित एक ग़ज़ल पेश है:-

 

26th-january-2

   वतन पर मर-मिटने की अपनी तंमना है.!
   कुछ कर गुज़रने  की एक दिली तंमना है.!!

   देखें  कब  है  देता रब्ब मन-चाहा मौका.!
   जीते – जी मिले पर बस इतनी तंमना है.!!

   जब – जब जन्मूँ इस मुल्क में ही जन्मूँ.!
   दिन – रात खुदा से यही अपनी तंमना है.!!

   इस मुल्क से अच्छा  मुल्क ना ज़हान में.!!
   यूँही मिल-जुल रहने की सबकी तंमना है.!!

   पूरब वासी हैं सब दिल के  सीधे-सच्चे हैं.!
   दुनियाँ को भारत से सीखने  की तंमना है.!!

   इस देश का हर बाशिंदा  है सच्चा सिपाही.!
   सीमा पर लड़ने-मरने की सबकी तंमना है.!!

   ‘सागर‘खुशकिस्मत इस देश में पैदा हुआ.!
   तिरन्गे  खातिर  जान लुटाने की तंमना है.!!

1s

 

Watan Par Mar-Mitane Ki Apni Tammna Hai.!

Kuch Kar Guzarane Ki Ek Dilee Tammna Hai.!!

 

Dekhein Kab Hai Deta Rabb Mn-Chaha Mauka.!

Jeete – Jee  Mile  Par Bas Yahee Tammna Hai.!!

 

Jab – Jab Janmoon Is Mulk Mein Hi Janmoon.!

Din-Raat Khuda Se Yahee Apani Tammna Hai.!!

 

Is  Mulk  Se  Achcha  Mulk  Na  Zahaan Mein.!

Yunhi Mil-Jul Rehane Ki Sabki Tammana Hai.!!

 

Purab Wasi Hain Sab Dil Ke Sidhe-Sache Hain.!

Duniyan Ko Bharat Se Sikhne Ki Tammna Hai.!!

 

Is  Desh  Ka  Har  Baashinda Hai Sachcha Sipahi.!

Seema Par Ladne-Marne Ki Sabki Tammmna Hai.!!

 

Sagar‘Khushkismat Is Desh Mein Paida Hua.!

Tirange Khatir Jaan Lutaane Ki Tammna Hai.!!

Advertisements

About Dilkash Shayari

"Everyone Thinks Changing The World,But No One Thinks Of Changing Himself" I'm Advocate(Lawyer) Writer&Poet BHOPAL All Copyrights Are Reserved.(Under Copyright Act) Please Do Not Copy Without My Permission.

Posted on January 26, 2016, in Ghazals Zone, Shayari-e-Watan. Bookmark the permalink. 3 Comments.

Comments/विचार

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: